DA Image
26 मार्च, 2020|8:16|IST

अगली स्टोरी

राज्य के 89 मॉडल स्कूलों को सीबीएसई की मान्यता मिलेगी

cbse

राज्य के 89 मॉडल स्कूलों को राज्य सरकार हाईटेक बनाएगी। इन स्कूलों को सीबीएसई से मान्यता दिलाने के लिए राज्य सरकार प्रस्ताव भी भेजेगी। वहीं इन स्कूलों में स्थाई शिक्षक नियुक्त होंगे। इसके लिए राज्य सरकार जिलों से मॉडल स्कूल वार शिक्षकों के पद और खाली पदों की संख्या की मांग की है। 

राज्य में 89 मॉडल स्कूल संचालित है। इसमें छठी से 12वीं तक की पढ़ाई होती है। अन्य सरकारी विद्यालयों से अलग मॉडल स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम में छात्र छात्राओं को पढ़ाया जाता है। इसके लिए फिलहाल घंटी आधारित शिक्षक इन स्कूलों में कार्यरत हैं। सरकार पहले चरण में सभी जिलों में कम से कम एक-एक आवासीय मॉडल स्कूल तैयार करना चाहती है। इसमें जो भी बच्चे स्कूल में नामांकित होंगे, वह उसी स्कूल की हॉस्टल में रहेंगे। इसके लिए विषयवार शिक्षकों की स्थाई नियुक्ति होगी, ताकि छात्र-छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिल सके। स्कूलों को आवासीय करने और शिक्षकों की नियुक्ति के बाद सीबीएसई की मान्यता के लिए प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा। राज्य के नेतरहाट आवासीय विद्यालय को सीबीएसई की मान्यता मिल चुकी है, जबकि इंदिरा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय को सीबीएसई की मान्यता के लिए प्रस्ताव देना है। 

मॉडल स्कूलों में  54 बच्चों पर हैं एक शिक्षक
राज्य के मॉडल स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। इन स्कूलों में 7977 छात्र-छात्राएं नामांकित हैं, जबकि इनके लिए मात्र 147 शिक्षक हैं। अगर शिक्षक और छात्र अनुपात देखें तो 54 बच्चों पर एक शिक्षक हैं, जो नियम का पूरा उल्लंघन है। मॉडल स्कूलों में अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान और गणित विज्ञान के ही शिक्षक कार्यरत हैं। इन स्कूलों में  इतने शिक्षक नियुक्त करने हैं, ताकि शिक्षक और छात्र अनुपात भी सही हो सके। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:89 model schools of jharkhand to get CBSE recognition