DA Image
17 अक्तूबर, 2020|8:09|IST

अगली स्टोरी

69000 शिक्षक भर्ती : प्रयागराज के 845 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित

teacher 2020

परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के क्रम में प्रयागराज के 845 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित किया गया। 31277 की लिस्ट में जिले के 990 रिक्त पदों के सापेक्ष आवंटित 979 अभ्यर्थियों में से 921 ने काउंसिलिंग कराई थी। इनमें से 845 शिक्षकों को शुक्रवार को युनाइटेड कॉलेज नैनी के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में नियुक्ति पत्र वितरित किया गया। 76 अभ्यर्थियों को तकनीकी कारणों एवं दस्तावेज का मिलान न होने के कारण नियुक्ति पत्र वितरित नहीं किया जा सका।

मुख्य अतिथि फूलपुर सांसद केशरी देवी पटेल ने नियुक्ति पत्र सौंपते हुए कहा कि भावी पीढ़ी का भार शिक्षकों के कंधे पर हैं। वही देश को विकास के पथ पर अग्रसर करेंगे। महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने कहा कि शिक्षा ही एकमात्र ऐसी चीज है जिसे जितना बांटों उतना बढ़ती है। शिक्षक राष्ट्र निर्माता हैं। शहर उत्तरी विधायक हर्षवर्धन बाजपेई ने कहा कि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के राष्ट्रपति भी भारत के शिक्षित युवाओं का लोहा मानते हैं। यह हमारे शिक्षकों की बदौलत हैं। 

हालांकि ये भी चिंता का विषय है कि परिषदीय विद्यालयों के लिए कान्वेंट या केंद्रीय विद्यालय की तरह मारामारी नहीं दिखती। इलाहाबाद की सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी की अनुपस्थिति में उनके प्रतिनिधि संत प्रसाद पांडेय ने उनका संदेश पढ़कर सुनाया। जिले के प्रभारी मंत्री महेन्द्र सिंह को कार्यक्रम में आना था लेकिन अंतिम समय में कार्यक्रम स्थगित हो गया। इससे पहले एनआईसी में पांच शिक्षकों आशीष, अभिषेक, सुलोचना, श्वेता गौड़ व विनीता वर्मा को नियुक्ति पत्र दिया गया।

अतिथियों का स्वागत बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा व संचालन जीआईसी के शिक्षक डॉ. प्रभाकर त्रिपाठी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन खंड शिक्षाधिकारी मुख्यालय अर्जुन सिंह ने दिया। कोरांव के विधायक राजमणि कोल, बारा विधायक डॉ. अजय भारती, डीएम भानुचन्द्र गोस्वामी, सीडीओ आशीष कुमार, खंड शिक्षाधिकारी संतोष श्रीवास्तव, मनोज राय, रामचन्द्र यादव, संतोष यादव, किरन पांडेय, ममता सरकार, हरिश्चन्द्र गिरि, राजीव त्रिपाठी आदि रहे।

20 साल के लंबे संघर्ष के बाद मिली नौकरी-फोटो है
प्रयागराज। 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र मिला तो उनके चेहरे पर खुशियां बिखर गई। शिक्षामित्रों की खुशी का ठिकाना न रहा क्योंकि उन्हें डेढ़ से दो दशक के लंबे संघर्ष के बाद पक्की नौकरी मिल सकी है। मुबारकपुर फूलपुर की आशा देवी 2001 से शिक्षामित्र के रूप में कार्यरत हैं। 50 साल की आशा देवी 12 साल बतौर शिक्षक सेवा दे पाएंगी। 2005 से शिक्षामित्र के रूप में कार्यरत मऊआइमा की फूलकली और 2007 से शिक्षामित्र अतरसुइया की कृष्णा गुप्ता के चेहरे पर संतोष का भाव तैर रहा था। कोरांव के 28 वर्षीय युवा अशोक कुमार सिंह भी नियुक्ति पत्र पाने वालों में शामिल रहे। ओबीसी वर्ग के अशोक को सुपरटेट में 141 अंक मिले थे। नवनियुक्त शिक्षकों को अपनी मेडिकल रिपोर्ट के साथ बीएसए कार्यालय में ज्वाईनिंग देनी है। अभी इनकी स्कूलों में तैनाती नहीं हो सकी है। बीएसए ने बताया कि शासन से निर्देश मिलने के बाद पदस्थापन होगा। 

24 दिव्यांगों को भी मिली नियुक्ति
जिले में नियुक्ति पत्र पाने वाले 845 अभ्यर्थियों में 24 दिव्यांग (17 पुरुष व 7 महिला) भी शामिल हैं। दिव्यांग अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग 15 अक्तूबर को हुई थी। 

अचानक बदल गया नियुक्ति पत्र का प्रोफॉर्मा
प्रयागराज। नवनियुक्त शिक्षकों के नियुक्ति पत्र का प्रोफॉर्मा गुरुवार शाम अचानक से बदल जाने से पूरा महकमा परेशान रहा। शाम तकरीबन 7 बजे शासन से निर्देश मिला की नियुक्ति पत्र में चयनित शिक्षकों के घर का पता भी लिखा जाएगा। उसके बाद नये सिरे से नियुक्ति पत्र तैयार किया जाएगा। शुक्रवार भोर में चार बजे तक नियुक्ति पत्र की प्रिंटिंग होती रही।

न्याय मोर्चा ने शुरू की 69 घंटे की भूख हड़ताल
प्रयागराज। 69000 शिक्षक भर्ती में कथित भ्रष्टाचार व आरक्षण के नियमों की अनदेखी के खिलाफ न्याय मोर्चा ने शुक्रवार को 69 घंटे की भूख हड़ताल शिक्षा निदेशालय पर शुरू की। भर्ती में आरक्षण का समुचित पालन करने, फार्म में हुई मानवीय त्रुटि सुधार का मौका देने, भ्रष्टाचार में लिप्त सभी दोषियों को दंडित करने व भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर भूख हड़ताल करने वालों का नेतृत्व अमर बहादुर गौतम कर रहे हैं। न्याय मोर्चा के सह संयोजक सुमित गौतम ने कहा की सरकार मनमाने फैसले ले रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:69000 teachers recruitment: appointment letters distributed to 845 newly appointed teachers of Prayagraj