DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  बिहार में 4352 प्ले स्कूल बंद, 20 हजार से ज्यादा शिक्षक बेरोजगार

करियरबिहार में 4352 प्ले स्कूल बंद, 20 हजार से ज्यादा शिक्षक बेरोजगार

रिंकू झा,पटनाPublished By: Saumya Tiwari
Sun, 16 May 2021 07:07 AM
बिहार में 4352 प्ले स्कूल बंद, 20 हजार से ज्यादा शिक्षक बेरोजगार

कोरोना से शिक्षा व्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ। तभी तो दो सालों में बिहार के 4352 प्ले स्कूल बंद हो गए। 1432 स्कूल एक कमरे में शिफ्ट हो गए। इससे प्ले स्कूल में पढ़ रहे 40 हजार बच्चे प्रभावित हुए हैं। ये बच्चे अब स्कूल में नामांकित नहीं है। वहीं 20 हजार 272 शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मी बेरोजगार हो गए हैं। यह स्थित कोई एक पटना शहर की नहीं है बल्कि भागलपुर, मुजफ्फरपुर, गया, दरभंगा और रोहतास समेत जिलों मुख्यालय में खुले प्ले स्कूलों की है।

पूरे राज्य में आठ हजार 976 प्ले स्कूल मान्यता प्राप्त हैं। विभिन्न शहरों में स्कूल अनुसार प्ले स्कूल खुले। मार्च 2020 में कोरोना के कारण सालभर स्कूल बंद रहे। कुछ स्कूलों ने जैसे तैसे ऑनलाइन क्लास देना शुरू किया। लेकिन बहुत दिनों तक नहीं चल पाया। स्कूल के लिए खर्च उठाना मुश्किल हो गया।

ऑनलाइन से अभिभावक नहीं हुए संतुष्ट-

राजधानी पटना की बात करें तो कई स्कूलों ने ऑनलाइन क्लास देना शुरू किया, लेकिन अभिभावक संतुष्ट नहीं हुए। पटना का सबसे पुराना प्ले स्कूल ब्लोजम प्ले स्कूल की प्राचार्य पम्मी की मानें तो ऑनलाइन पढ़ाई में अभिभावक रूचि नहीं लेते हैं। कई अभिभावक ऑनलाइन पढ़ाई के कारण बच्चों के नाम कटवा रहे हैं। ऐसे में जो किराए के मकान में चल रहे प्ले स्कूलों के लिए बहुत मुश्किल है। ग्रामीण इलाकों में कई पढ़ी लिखी महिलाएं जिन्होंने बीएड या डीएलएड किया था, उन्होंने छोटा सा स्कूल खोलकर बच्चों को शिक्षा दे रही थी। पुनपुन में प्ले स्कूल चल रही मौसमी ने बताया कि तीन कमरे थे। अब स्कूल एक कमरे में शिफ्ट कर दिया।

ब्रांडेड प्ले स्कूल भी बंद होने के कगार पर-

किड्जी, डीपीएस जूनियर, सेमरॉक आदि फ्रेंचायजी पर तल रहे प्ले स्कूलों की स्थिति भी बहुत दयनीय है। पूरे राज्य में इन स्कूलों की संख्या लगभग छह सौ है। लेकिन ये स्कूल भी अब बंद हो रहे हैं, क्योंकि जिनके ऊपर हर महीने का खर्च 30 से 40 हजार का है। ऐसे में स्कूल चलाना मुश्किल हो रहा है।

किराये देने को पैसे नहीं तो बंद कर दिया स्कूल-

लोन लेकर स्कूल खोना था। अभी लोन चुकता भी नहीं हुआ है। आमदनी बिल्कुल नहीं है। ऐसे में स्कूल चलाना मुश्किल हो रहा था। अंत में स्कूल बंद करना पड़ा। भागलपुर में बचपन प्ले स्कूल के निदेशक रमेश ने ये बातें कहीं। वहीं मुजफ्फरपुर स्थित लिटिल मिलेनियम स्कूल 2010 में खुला था। लेकिन फरवरी में इस बार बंद हो गया।


 

संबंधित खबरें