DA Image
28 जनवरी, 2020|11:31|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्जी डिग्री लेकर नियुक्त हुए 11 शिक्षक बर्खास्त

डॉ भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा की बीएड की फर्जी डिग्री पर नियुक्ति पाने वाले शिक्षकों पर बेसिक शिक्षा विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है। जनपद में चिन्हित किए गए 11 फर्जी डिग्री वाले शिक्षकों की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं। 

बीएसए ने संबंधित खंड शिक्षा अधिकारियों को बर्खास्त किए गए शिक्षकों के खिलाफ शीघ्र रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। वहीं इनसे अब तक वेतन के रूप में ली गई धनराशि की रिकवरी किए जाने की बात कही है। 

डॉक्टर भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी की वर्ष 2004-05 में फर्जी डिग्री से बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों ने शिक्षक पद पर नियुक्ति पाने में कामयाबी हासिल कर ली थी। तभी से वह शिक्षक पद पर कार्य कर रहे थे। इस मामले में एसआईटी लखनऊ द्वारा जांच की जा रही थी। 

एसआईटी की जांच के आधार पर बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव ने प्रदेश के सभी मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक को डाटा की सीडी जारी की गई थी। जिसके तहत मंडलीय शिक्षा निदेशक ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अधिकारियों से ऐसे शिक्षकों को चिन्हित करने के आदेश थे। 

इस पर बीएसए ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी करते हुए बीएड की फर्जी डिग्री पर नियुक्ति पाने वाले शिक्षकों की सूची मांगी थी। जनपद के 11 शिक्षक फर्जी डिग्री पर नियुक्ति पाने वाले पाए गए थे। 

शिक्षकों को माह अगस्त में बेसिक शिक्षा विभाग ने नोटिस जारी करते हुए स्पष्टीकरण मांगा था, लेकिन यह 11 शिक्षक अपने समर्थन में कोई भी अभिलेख और सबूत नहीं दे पाए। 

शासन के आदेश पर अब जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी वीरेंद्र प्रताप सिंह ने फर्जी डिग्री पर नियुक्ति पाने वाले जनपद के 11 शिक्षकों की सेवा समाप्त कर दी। इस आशय का पत्र सभी आरोपियों को जारी करते हुए उन्हें अवगत करा दिया गया है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:11 teachers suspended after producing fake BEd degrees