Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Zerodha Nikhil Kamath Opens Up Why He Doesnt Have Children Going To Ruin check details

विरासत के लिए बच्चे पैदा करने का मतलब नहीं, इस कारोबारी ने बताया वक्त की बर्बादी

  • ऑनलाइन ब्रोकिंग फर्म जीरोधा (Zerodha) के फाउंडर निखिल कामत (Nikhil Kamath) की पिता बनने में दिलचस्पी नहीं है।

Varsha Pathak नई दिल्ली, हिन्दुस्तान संवाददाताWed, 15 May 2024 07:53 PM
ट्रेड

ऑनलाइन ब्रोकिंग फर्म जीरोधा (Zerodha) के फाउंडर निखिल कामत (Nikhil Kamath) की पिता बनने में दिलचस्पी नहीं है। निखिल कामत के मुताबिक विरासत को आगे बढ़ाने के लिए बच्चे पैदा करने का पारंपरिक विचार उन्हें सही नहीं लगता है। इसके साथ ही उन्होंने सोशल वर्क को ज्यादा तवज्जो देने की बात कही।

क्या कहा निखिल कामत

उन्होंने अपने पॉडकास्ट WTF के एक एपिसोड में पिता बनने की सोच के बारे में बताया है। निखिल कामत के मुताबिक वह अपनी वर्तमान गतिविधियों को प्राथमिकता देते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे लिए बच्चे के पालन-पोषण में अपने जीवन का एक बड़ा हिस्सा खर्च करने की जरूरत महसूस नहीं होती है। यह भी एक बड़ा कारण है कि मेरे बच्चे नहीं हैं।

 

चुनावी माहौल में मामूली राहत, अप्रैल में 4.83 फीसदी की दर से बढ़ी खुदरा महंगाई

घाटे से मुनाफे में आई यह कंपनी, ₹175 करोड़ का हुआ प्रॉफिट, ₹196 पर आया शेयर

विरासत के लिए बच्चे करने का मतलब नहीं

निखिल कामत ने कहा- मैं बच्चे की देखभाल करते-करते अपने जीवन के 18-20 साल बर्बाद कर दूं लेकिन क्या होगा अगर वह 18 साल की उम्र में सबकुछ छोड़कर चला जाए। 37 वर्षीय कारोबारी कामत ने आगे कहा कि वह विरासत के लिए किसी को अपने पीछे छोड़ने के पारंपरिक विचार से सहमत नहीं हैं। निखिल कामत ने कहा कि केवल यह सुनिश्चित करने के लिए बच्चे पैदा करना कि उन्हें मृत्यु के बाद याद रखा जाएगा, मेरे मूल्यों के अनुरूप नहीं है। मौत के बाद याद किए जाने का क्या मतलब है? मुझे लगता है कि आपको इस धरती पर आना चाहिए, आपको अच्छे से रहना चाहिए, आपको अपने जीवन में मिलने वाले लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए।

सोशल वर्क पर फोकस

कामत ने कहा, "मैं 37 साल का हूं और अगर एक भारतीय की औसत आयु 72 साल है, तो मेरे पास 35 साल बचे हैं। बैंकों में पैसा छोड़ने का कोई वैल्यू नहीं है... इसलिए मैं अपने वक्त और पैसे को उन चीजों को देना पसंद करूंगा जिन पर विश्वास करता हूं। इसलिए पिछले 20 वर्षों में मैंने जो पैसा कमाया है और जो मैं अगले 20 वर्षों में कमाऊंगा उसे बैंक में छोड़ने के बजाय परोपकार या दान में देना पसंद करूंगा। आपको बता दें कि जीरोधा के को-फाउंडर निखिल कामत पिछले साल 'गिविंग प्लेज का' का हिस्सा बनने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय बने थे। उन्होंने अपनी ज्यादातर संपत्ति परोपकार के लिए दान की थी। कामत इस मामले में इंफोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलेकणि, बायोकॉन की संस्थापक किरण मजूमदार-शॉ और विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी को अपना प्रेरणास्त्रोत मानते हैं।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें