DA Image
17 अक्तूबर, 2020|9:11|IST

अगली स्टोरी

लोन गारंटर बनने पर गिर सकता है आपका सिबिल

   common man   s diwali in your hands     sc   s nudge to centre on loan relief file pic

कोरोना महामारी ने अधिकांश लोगों की वित्तीय स्थिति को कमजोर किया है। इसके चलते बैंक से लोन लेने वालों की संख्या आने वाले समय में बढ़ सकती है। ऐसे में अगर आपका कोई रिश्तेदार लोन लेना चाह रहा है और आपको उसका गारंटर बनाना चाहता है तो संभलकर निर्णय लें। गारंटर का मतलब सिर्फ एक कागज पर दस्तखत करना नहीं होता है। इससे आपकी लोन लेने की व्यक्तिगत क्षमता कम हो जाती है। साथ ही लोन नहीं चुकाने पर आपका सिबिल स्कोर भी प्रभावित होता है। लोन लेने वाले व्यक्ति द्वारा कर्ज नहीं चुकाने पर बैंक आपसे वसूली कर सकता है।

गारंटर बनने से पहले ये जानें

अगर आप गारंटर बन रहें तो यह पहले पता करें कि बैंक आपको किस तरह का गारंटर बना रहा है। बैंक दो तरह के गारंटर बनाते हैं, गैर-वित्तीय गारंटर और वित्तीय गारंटर। एक गैर-वित्तीय गारंटर लोन चुकाने में देरी होने पर बैंक और कर्जदाता को एक दूसरे से जोड़ने का काम करता है। दूसरी तरफ, एक वित्तीय गारंटर को, उधारकर्ता द्वारा लोन नहीं चुकाने की स्थिति में उस लोन को चुकाने की जिम्मेदारी उठानी पड़ सकती है।

घट जाएगी आपकी ऋण लेने की योग्यता

लोन गारंटर का मतलब है कि बैंक को कर्ज लेने वाले पर पूरा भरोसा नहीं है कि वह कर्ज लौटा पाएगा। बैंक अपने लोन की सुरक्षित करने के लिए गारंटर मांगता है। ये गारंटी अचल संपत्ति के रूप में या किसी व्यक्ति के रूप में हो सकता है। अगर आप लोन का गारंटर बनते हैं तो आपकी लोन लेने की क्षमता घट जाती है। उदाहरण के लिए, अगर आप, 40 लाख के लोन का गारंटर हैं और आप घर खरीदने के लिए 60 लाख रुपये का होम लोन लेना चाहते हैं। आपकी लोन लेने की क्षमता 60 लाख रुपये है तो भी बैंक आपके 20 लाख रुपये ही लोन देंगे।

खराब होगा क्रेडिट स्कोर

अगर आप किसी लोन का वित्तीय गारंटर हैं और लोन लेने वाले व्यक्ति ने कर्ज नहीं चुकाया है तो आपका क्रेडिट स्कोर भी खराब हो सकता है। बैंक के एक अधिकारी के मुताबिक, सिबिल केवल कर्जदारों की सूचनाएं ही नहीं जुटाता है बल्कि गारंटी देने वालों का रिकॉर्ड भी रखता है। सिबिल रिपोर्ट में न केवल व्यक्ति के क्रेडिट कार्ड और लोन के खातों का विवरण होता है, बल्कि उस लोन का भी विवरण होता है, जिसकी उसने गारंटी दी है। यानी लोन डिफॉल्ट होने पर गारंटर का क्रेडिट स्कोर खराब होना तय है।

डिफॉल्‍ट होने पर क्‍या रास्‍ता

अगर कर्ज लेने वाला व्‍यक्ति नियमित रूप से ईएमआई का भुगतान नहीं कर रहा है तो सबसे अच्‍छा तरीका पारिवारिक और सामाजिक दबाव डालना है। इस पर भी वह नहीं मानता है तो उससे कानूनी रूप से निपट सकते हैं।

गारंटी ले चुके हैं तो क्‍या करें

अगर आप पहले ही गारंटर हैं तो कर्ज लेने वाले व्‍यक्ति और कर्ज देने वाले बैंक से भी संपर्क में रहें। इसके अलावा अपना क्रेडिट स्‍कोर भी नियमित रूप से चेक करें। अगर कोई परेशानी होगी, तो वह आपके स्‍कोर में दिखेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Your CIBIL may fall if you become a loan guarantor