DA Image
4 जून, 2020|8:47|IST

अगली स्टोरी

वर्क फ्रॉम होम हैं तो रहें सावधान, साइबर ठग साफ कर देंगे आपकी जमा-पूंजी, ये हैं बचने के उपाय

cyber crime

कोरोना के कारण भारत समेत दुनियाभर में लोग घर से काम (वर्क फ्रॉम होम) कर रहे हैं। इससे आम लोगों के साथ सभी प्रकार की कंपनियों के लिए साइबर सुरक्षा का जोखिम बढ़ गया है। कंपनियों के निजी आंकड़ों को कर्मचारी अपने घर से लैपटॉप या घर पर लगे पीसी से संचालित कर रहे हैं। ऐसे में साइबर हमले की आशंका बढ़ जाती हैं। मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर के हैक हो जाने पर कई बार आपका डाटा करप्ट हो जाता है जिसके चलते कई बार नुकसान भी झेलना पड़ता है। बता दें बीते 3 महीने में 11000 से ज्यादा साइबर हमले हो चुके हैं, जिनमें 6 हजार साइबर हमले ऑस्ट्रेलिया में तो पांच हजार इंडोनेशिया में हुए।


साइबर हमला कितना नुकसान पहुंचा सकता है और कैसे आपकी रोजमर्रा की जिंदगी को प्रभावित कर सकता है इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। अमेरिका और कनाडा में कुछ वर्ष पहले साइबर की वजह से शहर के शहर ठप हो गए थे। इससे कुछ ही समय में खरबों डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा था। भारत में भी विप्रो और एसबीआई जैसी कंपनियां इसकी चपेट में आ चुकी हैं। विप्रो का पूरा आईटी नेटवर्क बंद हो गया था। जबकि एसबीआई के 32 लाख ग्राहकों का आंकड़ा चोरी हो गया था जिसके बाद बैंक ने नया डेबिट जारी किया था।

बीमा कंपनियां दे रहीं कवर

साइबर हमले को देखते हुए बीमा कंपनियों ने उसके लिए भी कवर देना शुरू कर दिया है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस और एसबीआई जनरल इंश्यारेंस समेत कई कंपनियां इस तरह का बीमा कवर देती हैं। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस के प्रमुख संजय दत्ता का कहना है कि साइबर डिफेंस बीमा आपके डाटा के खोने, हैकिंग के दौरान कारोबार में नुकसान होने जैसे कई जोखिम को कवर करता है। उनका कहना है कि इसके तहत ज्यादातर तीसरे पक्ष का (थर्ड पार्टी) बीमा कवर दिया जाता है।

यूआरएल पर जरूर देखें ताले का निशान
 
साइबर हमला करने वाले इनाम देने या दिए गए लिंक पर क्लिक करने पर आकर्षक राशि  का झांसा देते हैं। ऐसे में आंख-मूंदकर किसी अनजान वेबसाइट या लिंक पर क्लिक करने से बचें। साइबर विशेषज्ञों का कहना है कि वेबसाइट को खोलते समय दो बातो ंका जरूर ध्यान रखें। सबसे पहले देखें कि वेबसाइट के यूआरएल के पहले ताले का निशान है नहीं। ताले का निशान उसकी सुरक्षा की गारंटी होता है। दूसरी बात यूआरएल में एचटीटीपी के बाद एस लगा होना भी उसकी सुरक्षा की गारंटी होती है। यानी वह सुरक्षित है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Work from home if you are careful cyber thugs will clear your deposits