DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  कोटक महिंद्रा बैंक की 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेंगे उदय कोटक, शेयर में करीब 8 फीसद की उछाल
बिजनेस

कोटक महिंद्रा बैंक की 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेंगे उदय कोटक, शेयर में करीब 8 फीसद की उछाल

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Tue, 02 Jun 2020 09:54 AM
कोटक महिंद्रा बैंक की 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेंगे उदय कोटक, शेयर में करीब 8 फीसद की उछाल

कोटक महिंद्रा बैंक की 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की खबर के बाद आज इसके स्टॉक में उछाल देखने को मिल रहा है। सेंसेक्स में सुबह पौने दस बजे कोटक महिंद्रा बैंक का शेयर 7.80 फीसद उछल कर 1346.75 रुपये पर पहुंच गया। बता दें  रिजर्व बैंक के साथ सीमा से अधिक शेयरधारिता के मामले में लम्बे समय से कानूनी दाव-पेंच में उलझे अरबपति बैंकर उदय कोटक 'कोटक महिंद्रा बैंक की अपनी 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी मंगलवार को बेचेंगे। समझा जाता है कि वह इसे कम से कम 6,804 करोड़ रुपये में बेचने वाले हैं। सूत्रों ने पीटीआई-भाषा को इसकी जानकारी दी। बता दें कोटक महिंद्रा बैंक देश का चौथा सबसे बड़ा निजी बैंक है। उदय कोटक एशिया में बैंक का कारोबार करने वालों में सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

ब्लॉक डील के जरिये कम की जाएगी हिस्सेदारी 

कोटक की बैंक में अधिक हिस्सेदारी होने के कारण रिजर्व बैंक के साथ लंबे समय से खींचतान चल रही थी। इसे लेकर कोटक ने रिजर्व बैंक के खिलाफ दिसंबर 2018 में बांबे उच्च न्यायालय की शरण ली थी। यह मामला अभी अदालत में लंबित है। इस बिक्री से बैंक में उनकी हिस्सेदारी घट कर 26 प्रतिशत पर आ जाएगी, जो आरबीआई द्वारा तय नियम के दायरे में होगी। मामले से जुड़े एक सूत्र ने पीटीआई-भाषा को बताया, ''ब्लॉक डील के जरिये हिस्सेदारी को कम किया जायेगा। यह सौदा जल्द ही होगा और इसकी दर 1,215 रुपये से 1,240 रुपये प्रति शेयर के बीच होगी। 

यह भी पढ़ें: Market Live: बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 300 अंक ऊपर, निफ्टी 100 अंकों की उछाल

कच्चे बेचीनामे के अनुसार उदय कोटक बैंक के 5.6 करोड़ या 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी थोक सौदे में बेचेंगे। उनके शेयर कम होने के बाद बैंक में उनका हिस्सा 28.93 प्रतिशत से घट कर 26.1 प्रतिशत रह जाएगा।  कीमत दायरे के न्यूनतम स्तर की बोली के हिसाब से भी 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए उन्हें कम से कम 6,804 करोड़ रुपये मिलेंगे। सबसे ऊंचे स्तर की बोली में प्राप्ति 6,944 करोड़ रुपये की हो सकती है। रिजर्व बैंक के प्रावधान के हिसाब से किसी बैंक में प्रवर्तक की अधिकतम हिस्सेदारी 26 प्रतिशत हो सकती है। 

संबंधित खबरें