DA Image
10 जुलाई, 2020|12:12|IST

अगली स्टोरी

उबर इंडिया ने 600 स्थायी कर्मचारियों को निकाला, भारत में कुल वर्कफोर्स का 25 फीसद की छंटनी

                                                                                                                                             600

ऑनलाइन कैब सेवा देने वाली कंपनी कंपनी उबर ने भारत में 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। यह छंटनी कस्टमर एंड ड्राइवर सपोर्ट, बिजनेस डवलपमेंट, लीगल, फाइनेंस और मार्केटिंग वर्टिकल्स से की गई है। ये 600 कर्मचारी उबर की देश में कुल वर्कफोर्स का करीब 25 फीसदी है। बता दें कैब सेवा प्रदाता सेक्टर में उबर की प्रतिद्वंदी कंपनी ओला ने भी कोरोना आपदा से निपटने के लिए कर्मचारियों की छंटनी शुरू की है। पिछले सप्ताह ही ओला ने 1400 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला था। यह देश में ओला की कुल वर्कफोर्स का 35 फीसदी संख्या है। 

यह भी पढ़ें: कोरोना का कहर: थम नहीं रहा कर्मचारियों की छंटनी और सैलरी कटने की बुरी खबरों का सिलसिला

उबर ने घोषणा की है कि इस छंटनी से प्रभावित कर्मचारियों को 10 सप्ताह का पे-आउट और अगले 6 महीने के लिए मेडिकल इंश्योरेंस कवरेज दिया जाएगा। कंपनी ने जिन 600 कर्मचारियों को निकाला है, वह सभी स्थायी कर्मचारी थे। उबर के इंडिया एंड साउथ एशिया प्रेसीडेंट प्रदीम परमेश्वरन ने कहा कि नौकरियों में यह कटौती हाल ही घोषित की गई वैश्विक जॉब कट का हिस्सा है। उबर ने वैश्विक स्तर पर कुल 6700 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला है, जो उसके कुल वर्कफोर्स का करीब 25 फीसदी है।

कारदेखो डॉट कॉम ने करीब 200 कर्मचारियों को निकाला

वहीं ऑटो मोबाइल प्लेटफॉर्म कारदेखो डॉटकॉम ने कर्मचारियों की छंटनी और सैलरी में कटौती का फैसला किया है। सूत्रों का कहना है कि करीब 200 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला गया है। कारदेखो डॉट कॉम की पेरेंट कंपनी गिरनरसॉफ्ट ग्रुप का कहना है कि कोविड-19 की वजह से इंडस्ट्री में अवरोध उत्पन्न हुआ है और ऑटो सेक्टर इससे बुरी तरह प्रभावित हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने सैलरी में पे-पैकेज के आधार पर 12 से 15 फीसदी तक की कटौती का फैसला किया है। वहीं वरिष्ठ प्रबंधन की सैलरी में 45 फीसदी तक की कटौती होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uber India lays off 600 employees a 25 pct its workforce in india