ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Businessthese dangerous SMS are fooling smartphone users see the list of most predatory messages

स्मार्टफोन यूजर्स को मूर्ख बना रहे ये खतरनाक एसएमएस, सबसे ज्यादा शिकार करने वाले मैसेजों की देखें लिस्ट

Fake Messages, Scam:82% भारतीय फेक मैसेज के झांसे में आ जाते हैं। फेक जॉब नोटिफिकेशन या ऑफर (64% और बैंक अलर्ट मैसेज (52%) सबसे आम तरकीबें हैं, जिनका इस्तेमाल ठगने के लिए किया जाता है।

स्मार्टफोन यूजर्स को मूर्ख बना रहे ये खतरनाक एसएमएस, सबसे ज्यादा शिकार करने वाले मैसेजों की देखें लिस्ट
Drigraj Madheshiaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 09 Nov 2023 06:25 AM
ऐप पर पढ़ें

अगर आप स्मार्ट फोन यूजर हैं और आपके पास लॉटरी जीतने, नकली मिस्ड डिलीवरी, डिलीवरी से संबंधित समस्याएं, फर्जी बैंक अलर्ट, पासवर्ड अपडेट जैसे एसएमएस मिलते हैं तो सावधान हो जाएं। साइबर ठग आजकल स्मार्टफोन यूजर्स को ऐसे एसएमएस या ईमेल के जरिए आसानी से मूर्ख बनाकर उनके खातों से पैसे उड़ा ले रहे हैं। एक स्टडी में यह पता चला है कि भारतीयों को हर दिन 12 फर्जी मैसेज/स्कैम प्राप्त होते हैं और उन्हें पहचानने में प्रति सप्ताह 1.8 घंटे लगते हैं।

McAfee के ग्लोबल स्कैम मैसेज स्टडी में भारत सहित सात देशों के 7,000 से अधिक वयस्कों ने यह समझने के लिए अध्ययन में भाग लिया कि घोटाले वाले मैसेज और एआई के कारण स्कैम की बढ़ती जटिलता ने दुनिया भर के उपभोक्ताओं को कैसे प्रभावित किया है।

चौंकाने वाली बात यह है कि 82% भारतीय फेक मैसेज के झांसे में आ जाते हैं। फेक जॉब नोटिफिकेशन या ऑफर (64% और बैंक अलर्ट मैसेज (52%) सबसे आम तरकीबें हैं जिनका इस्तेमाल किया जाता है, लोगों को ठगने के लिए किया जाता है। 

टीओआई की खबर के मुताबिक भारत में किए गए सर्वे से पता चला कि इस सर्वे में भारत के 60% उत्तरदाताओं ने कहा कि उन्हें स्कैम मैसेज की पहचान करना कठिन लगता है, क्योंकि हैकर्स उन्हें अधिक विश्वसनीय बनाने के लिए एआई का उपयोग करते हैं। इसके अलावा 49% लोगों ने कहा कि स्कैम वाले मैसेसेज अब कम गलतियों के साथ और अत्यधिक विश्वसनीय लगते हैं। इसके साथ ही इसमें व्यक्तिगत जानकारी भी शामिल है, जिससे उन्हें पहचानना कठिन हो जाता है।

फेक मैसेज के प्रकार और उनका प्रतिशत

  • “You’ve won a prize!” – 72% 
  • फेक जॉब नोटिफिकेशन या ऑफर्स – 64% बैंक अलर्ट मैसेज– 52% 
  • उस खरीदारी के बारे में जानकारी जो आपने की ही नहीं – 37% 
  • नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम जैसे ओटीटी प्लेटफार्मो के सब्सक्रिप्शन अपडेट्स  – 35% 
  • फेक मिस्ड डिलीवरी, या डिलीवरी प्राब्लम, नोटथ्फिकेशन- 29% 
  • अमेजन सिक्योरिटी अलर्ट, या एकाउंट अपडेट के संबंध में नोटिफिकेशन - 27% 

82 फीसद लोगों ने किया क्लिक: उपरोक्त संदेश लगभग हर स्मार्ट फोन यूजर के पास रोजाना दो-चार जरूर आते हैं। भारत के केस में सर्वे बताता है कि 90%  यूजर को प्रतिदिन ईमेल और टेक्स्ट के माध्यम से और 84% को सोशल मीडिया पर फेक मैसेज प्राप्त होते हैं। चिंता की बात यह है कि इनमें से 82% ने फर्जी संदेशों यानी फेक मैसेज पर क्लिक किया है।

किन संदेशों पर लोग आसानी से कर लेते हैं भरोसा

  • “You’ve won a prize!” – 41% 
  • उस खरीदारी के बारे में जानकारी जो आपने की ही नहीं – 24% 
  • नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम जैसे ओटीटी प्लेटफार्मो के सब्सक्रिप्शन अपडेट्स  – 35% 
  • फेक मिस्ड डिलीवरी, या डिलीवरी प्राब्लम, नोटथ्फिकेशन- 23%  
  • अमेजन सिक्योरिटी अलर्ट, या एकाउंट अपडेट के संबंध में नोटिफिकेशन - 27% 
  • साइन इन और लोकेशन वेरिफकेशन मैसेज - 24% 

ऐसे मैसेज का क्या करते हैं लोग

सर्वे के मुताबिक 28%  लोग स्कैम वाले ईमेल को अनदेखा करते हैं जबकि, 28% यूजर  सेंडर को ब्लॉक कर देते हैं और 31% यूजर मैसेज की रिपोर्ट करते हैं। हालांकि, 88% भारतीय ऑनलाइन घोटालों का पता लगाने के लिए AI पर भरोसा करते हैं और 59% का मानना है कि AI को मात देने के लिए AI आवश्यक है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें