ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News BusinessTesla will enter India very soon Piyush Goyal will meet Elon Musk after Diwali

भारत में बहुत जल्द होगी टेस्ला की एंट्री, पीयूष गोयल दिवाली बाद करेंगे एलन मस्क से मुलाकात

Tesla in India soon: जून में टेस्ला के बॉस की पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद से गोयल और मस्क के बीच की बैठक सबसे हाई-प्रोफाइल बैठक होगी। इससे भारत में टेस्ला की एंट्री का मार्ग प्रशस्त होगा।

भारत में बहुत जल्द होगी टेस्ला की एंट्री, पीयूष गोयल दिवाली बाद करेंगे एलन मस्क से मुलाकात
Drigraj Madheshiaरायटर्स,नई दिल्लीThu, 09 Nov 2023 06:46 AM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल अगले सप्ताह यानी दिवाली के बाद अमेरिका में टेस्ला के मालिक एलन मस्क से मुलाकात करेंगे। ऐसी चर्चा है कि यह मुलाकात कार निर्माता टेस्ला के दक्षिण एशियाई बाजार में प्रवेश करने की योजना को आगे बढ़ाने में मदद करेगी। यह जानकारी इस मामले से जुड़े दो जानकारों ने दी है। जून में टेस्ला के बॉस की पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद से गोयल और मस्क के बीच की बैठक सबसे हाई-प्रोफाइल बैठक होगी।

दो सूत्रों में से एक ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि अमेरिका में मस्क और गोयल के बीच चर्चा टेस्ला की एक भारतीय फैक्ट्री स्थापित करने की है, जहां 24,000 डॉलर यानी 20 लाख रुपये की कार बनाने, अधिक कंपोनेंट की सोर्सिंग करने और पूरे देश में चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की स्थापना करने की योजना पर केंद्रित होगी।

भारत जिस नई नीति पर काम कर रहा है उस पर भी चर्चा होने की संभावना है। यह नीति वाहन निर्माताओं को 15% की कम टैक्स रेट पर भारत में पूरी तरह से निर्मित ईवी आयात करने की अनुमति देगा, जो अभी लग रहे 100% से काफी कम है। एक सूत्र ने कहा कि यह बैठक यह सुनिश्चित करने के लिए है कि भारत और टेस्ला के बीच बातचीत "सही दिशा में आगे बढ़ रही है"। हालांकि, वाणिज्य मंत्रालय और टेस्ला ने इस पर अपना पक्ष रखने के अनुरोधों का जवाब नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें: जनवरी में भारत आ सकती है टेस्ला, जानिए कार की कितनी होगी कीमत

कई महीनों से बातचीत कर रहे टेस्ला और भारत

टेस्ला और भारत कई महीनों से बातचीत कर रहे हैं। अमेरिकी कार निर्माता एक कारखाना स्थापित करने के लिए तैयार है, लेकिन अपने कुछ हाई-एंड वाहनों के लिए कम आयात कर प्राप्त करने के लिए भी उत्सुक है। एक तीसरे सूत्र ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी के कार्यालय ने नई ईवी नीति में तेजी लाने के लिए सोमवार को विभिन्न मंत्रालयों के साथ बैठक की।

तीसरे व्यक्ति ने कहा कि सरकार नई नीति का भारतीय ईवी बाजार पर पड़ने वाले प्रभाव का भी विश्लेषण कर रही है, क्योंकि स्थानीय कार निर्माताओं ने अक्सर कहा है कि कम ईवी आयात कर बाजार को बाधित कर सकते हैं और उनकी योजनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

क्यों हो गई थी 2021 की वार्ता

टेस्ला ने पहली बार 2021 में भारत में एंट्री की कोशिश की। अधिकारियों पर ईवी के लिए 100% आयात कर कम करने का दबाव डाला, लेकिन पिछले साल वार्ता विफल हो गई जब अधिकारियों ने बताया कि कंपनी को पहले स्थानीय विनिर्माण के लिए प्रतिबद्ध होना होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें