Taxpayers can avail tax benefit upto 4 lakh on home loan - होम लोन पर पा सकते हैं 4 लाख रुपए तक की टैक्स छूट, जानें कैसे DA Image
21 नबम्बर, 2019|4:14|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होम लोन पर पा सकते हैं 4 लाख रुपए तक की टैक्स छूट, जानें कैसे

ज्वाइंट होम लोन पर पति पत्नी दोनों टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं। अगर पति-पत्नी दोनों होम लोन का बराबर भुगता करते हैं तो वह अपनी इनकम टैक्स रिटर्न पर दो-दो लाख रुपए की छूट का फायदा उठा सकते हैं। चार्टर्ड एकाउंटेंट के सी गोदुका ने टैक्सपेयर्स के टैक्स छूट और निवेश से जुड़े सवालों का जवाब दिया।

सवाल - हम दोनों पति-पत्नी कार्यरत हैं। हमने संयुक्त नाम से होम लोन लिया है, जिसका भुगतान भी दोनों ही बराबर-बराबर कर रहे हैं। क्या होम लोन के ब्याज पर हम दोनों दो-दो लाख रुपये की छूट अपनी आयकर विवरणी में प्राप्त कर सकते हैं। - आनन्द गुप्ता
जवाब - जी हां। अगर मकान में मालिकाना हक आप दोनों का है तो आयकर की धारा 24 के तहत आप दोनों अलग-अलग दो लाख रुपये तक की छूट प्राप्त कर सकते हैं। यानी आप चार लाख रुपये तक की कर छूट प्राप्त कर सकते हैं। यदि मकान किसी एक के नाम से है और होम लोन संयुक्त नाम से है तो फिर जिनके नाम से मकान है उन्हीं को होम लोन के ब्याज की छूट प्राप्त होगी। 

सवाल - मैं वरिष्ठ नागरिक हूं। मुझे पंजाब नेशनल बैंक से पेंशन प्राप्त होता है। मैंने पत्नी के नाम उपहार सिटिजन सेविंग स्कीम में जमा किए हैं। मैं यह जानना चाहता हूं कि उन्हें जो 5 लाख रुपये से ब्याज की आय होगी उसमें से मेरी आय में 4.90 लाख रुपये के ब्याज को जोड़ा जाएगा या फिर 5 लाख रुपये के ब्याज को। -शिव कुमार गुप्ता, दिल्ली
जवाब - आयकर की धारा 64(1)( /फ्र५/र) के तहत आपकी आय में 4.90 लाख रुपये से प्राप्त ब्याज की आय को ही जोड़ा जाएगा।

सवाल - मेरी मां राज्य की पेंशन भोगी है। फॅार्म 15जी भरते समय उनकी आय की गणना कैसे करें, क्योंकि पेंशन समय समय पर बढ़ती रहती है। उनकी कुछ सवधि जमा (एफडी) से भी आय है। राहुल, अल्मोड़ा, उत्तराखण्ड

जवाब - फॅार्म 15जी भरते समय अनुमानित आय भरनी होती है। इसमें पिछले वर्ष की आय को आधार मानते हुए संभावित बढ़ोतरी को जोड़ कर अनुमानित आय भरनी चाहिए। 

डेबिट-क्रेडिट कार्ड की धोखाधड़ी से बचना है तो उठाएं ये कदम

सवाल - मैं एक गृहिणी हूं। मेरी उम्र 50 वर्ष है। मैंने घर पर ही स्वरोजगार केन्द्र खोला रखा है। महीने में 15 हजार रुपये कमा लेती हूं। वर्षो की बचत से लगभग 5 लाख मूल्य की एक कार खरीदना चाहती हूं। बिना कार लोन लिए किस प्रकार भुगतान करना चाहिए जिससे आयकर टैक्स विभाग के झमेले से बच सकूं। - तबस्सुम परवीन, भागलपुर
जवाब - आप अनेक वर्षो से कार्य कर रही हैं। काम करते हुए जो बचत आपने की है उसमें से आप अपने बैंक के माध्यम से चैक या ड्राफ्ट के माध्यम से कार के मूल्य का भुगतान कर दिजिए। ध्यान में रहें की भूल कर भी नगद में भुगतान ना करें।

सवाल - तकनीकी शिक्षा लेने पर वित्त वर्ष 2018-19 में मुझे 60 हजार रुपये छात्रवृत्ति मिली है। इसी वित्त वर्ष में मुझे एफडी ब्याज से आय हुई है। जानकारी चाहता हूं कि छात्रवृत्ति पर आयकर में छूट प्राप्त है या नहीं। अगर छूट प्राप्त है तो वह आयकर की किस धारा के तहत आता है। मुझे ट्यूशन से भी आय प्राप्त हुई है। मुझे आयकर का कोन सा फॉर्म भरना होगा। - अनिल कुमार, गाजियाबाद
जवाब - आयकर की धारा 10(16) के अनुसार अगर किसी योग्य छात्रा को शिक्षा की लागत को पूरा करने हेतु किसी भी प्रकार की छात्रवृत्ति या अवॉर्ड मिलता है तो वह कर मुक्त आय होगी। ट्यूशन से आय यदि आपकी आय का मुख्य स्रोत है तो फिर इसे व्यवसाय से आय माना जाएगा। ऐसी अवस्था में आपको आयकर फॉर्म-3 भरना होगा। अगर ट्यूशन से आय मुख्य स्रोत नहीं है तो फिर इसे आप अन्य स्रोत से आय भी मान सकते हैं। ऐसी अवस्था में आपको आयकर का फॉर्म आईटीआर-1 (सहज) भरना चाहिए। यह फॉर्म कोई भी व्यक्ति जिसकी वेतन से आय, एक मकान सम्पति से आय तथा अन्य स्त्रोत से आय है परन्तु कुल आय 50 लाख रुपये तक है भर सकता है। 

बैंकों से ज्यादा फायदेमंद है डाकघर के ‘आरडी’ में निवेश  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Taxpayers can avail tax benefit upto 4 lakh on home loan