DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर सलाह : उपहार में मिली संपत्ति को बेचने पर भी टैक्स देना होगा

सवाल : अगर कोई संपत्ति पिता अपने पुत्र को वसीयत के माध्यम से उपहार में देता है। पुत्र उस संपत्ति को सम्पूर्ण या आंशिक रूप में बेच देता है तो क्या पुत्र पर कोई आयकर दायित्व बनता है। (अनिल कुमार द्विवेदी)
जवाब : जी हां। उपहार या विल के तहत प्राप्त जमीन संपत्ति को बैचने पर भी कर दायित्व उसी प्रकार बनता है जिस प्रकार हमें अपनी जमीन संपत्ति को बेचने पर बनता है। अंतर केवल इतना है कि उपहार या बिल के तहत प्राप्त जमीन संपत्ति का क्रय मूल्य वही लिया जाता है जो उपहार देने वाले ने संपत्ति को क्रय करने पर अदा किया था।

कर सलाह : पिता से मिले उपहार पर कोई टैक्स देनदारी नहीं

सवाल : मैं एक सरकारी कर्मचारी हूं। मैंने मारुति की एक वैगन-आर गाड़ी 2016 में लोन लेकर खरीदी थी। मैंने मई 2019 में पूरी लोन राशि जो कि 2.6 लाख रुपये थी अदा कर दी। कुछ कारण से मुझे जुलाई 2019 में अपनी गाड़ी एक लाख रुपये में बैचनी पड़ी। मुझे वित्त वर्ष 2019-20 में कितनी राशि पर आयकर अदा करना होगा या फिर कितना नुकसान आयकर विवरणी में नियोक्ता को बताना होगा। (सुधा, लखनऊ)
जवाब : देखिये, गाड़ी आपने अपने निजी उपयागे हेतु खरीदी है। इसका नियोक्ता अथवा व्यवसाय से कोई संबंध नहीं है। अत: इसको बैचने पर आपको कोई नुकसान हुआ है तो इसका आपको अपनी आयकर विवरणी में कोई लाभ प्राप्त नहीं होगा।

सवाल : मेरी माताजी आवाश प्राप्त अध्यापिका है । उनकी वित्त वर्ष 2018-19 की कुल सालाना पेंशन 280,000 रुपये है । मेरे पिताजी भी आवाश प्राप्त अध्यापक थे। उनका अब देहांत हो चुका है। अत: मेरी माताजी पारिवारिक पेंशन के रूप में 180,000 रुपये प्राप्त करती हैं। साथ ही उनकी बचत खाते से आय 12,000 रुपये तथा एफडी के ब्याज से आय 80,000 रुपये है। इस प्रकार उनकी कुल आय 552,000 रुपये बनती है। क्या उन्हें वित्त वर्ष 2018-19 के तहत ये छूट प्राप्त होगी, स्टैंडर्ड डिडक्शन 40,000 रुपये, आयकर की धारा 57 के तहत पारिवारिक पेंशन पर छूट 15,000 रुपये, 80 टीटीए के तहत 10,000 रुपये तथा 80 टीटीबी के तहत 50,000 रुपये। (अजय शर्मा, काठ गोदाम, हल्द्वानी)
जवाब : आपकी माताजी एक वरिष्ठ नागरिक हैं। इसलिए उनकी आय पर ये सारे छूट प्राप्त होंगे। अपनी स्वयं की पेंशन जो की वेतन का ही हिस्सा होता है पर स्टेंडर्ड डिडक्शन 40,000 रुपये, आयकर की धारा 57 के तहत परिवारिक पेंशन पर छूट 15,000 तथा 80टीटीबी के तहत 50,000 रुपये। नागरिक को कुल ब्याज आय पर  50 हजार तक की छूट प्राप्त है । 

सवाल : साधारणतया पोस्ट ऑफिस 31 मार्च तक के ब्याज को एक अप्रैल में जमा करते हैं। मैं यह जानना चाहता हूं कि जो ब्याज 31 मार्च 2019 तक का था और जिसे पोस्ट ऑफिस ने एक अप्रैल, 2019 को जमा किया उसे वित्त वर्ष 2018-2019 की आय माना जाएगा या 2019-20 की। (कुवर पाल सिंह, नोएडा)
जवाब : आपको पोस्ट ऑफिस से प्राप्त ब्याज की आय को वित्त वर्ष 2018-2019 की आय मानकर अपनी कर गणना करनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tax Advice You have To pay Tax on Gift Assets