ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसटाटा के म्यूचुअल फंड का धांसू रिटर्न, इंतजार पर ₹10000 के बन गए ₹13 लाख

टाटा के म्यूचुअल फंड का धांसू रिटर्न, इंतजार पर ₹10000 के बन गए ₹13 लाख

टाटा बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज, बैंकिंग-फाइनेंस सर्विस सेक्टर में निवेश करने वाली ओपन-एंडेड इक्विटी योजना है। इस फंड की स्थापना 28 दिसंबर 2015 को हुई थी। फंड की 3-स्टार रेटिंग है।

टाटा के म्यूचुअल फंड का धांसू रिटर्न, इंतजार पर ₹10000 के बन गए ₹13 लाख
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 03 Dec 2022 04:28 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अगर फ्यूचर के लिए मोटी रकम का इंतजाम करना है तो इसके लिए अभी से निवेश जरूरी है। आप सही समय और सही जगह पर निवेश करते हैं तो शानदार रिटर्न मिल जाएगा। कुछ साल इंतजार के बाद ही आप मोटी रकम जुटा सकते हैं। 

मसलन, जिन निवेशकों ने करीब 7 साल पहले टाटा समूह की कंपनी टाटा बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज फंड में हर माह 10 हजार रुपये का निवेश किया होगा, तो उनकी रकम अब तक 13 लाख रुपये से ज्यादा हो गई है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि टाटा बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज, बैंकिंग-फाइनेंस सर्विस सेक्टर में निवेश करने वाली ओपन-एंडेड इक्विटी योजना है। इस फंड की स्थापना 28 दिसंबर 2015 को हुई थी। फंड की वैल्यू रिसर्च से 3-स्टार रेटिंग है।

कैसा है परफॉर्मेंस: इस म्यूचुअल फंड के सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) में निवेश करने वाले निवेशक मालामाल हो गए हैं। जिस निवेशक ने भी ₹10000 का मंथली SIP किया होगा, उसका कुल निवेश ₹1.20 लाख से बढ़कर ₹1.32 लाख हो गया होगा, जो 20.42% का रिटर्न दिखाता था। इसी तरह, ₹10000 के मासिक एसआईपी से पिछले तीन वर्षों में आपका कुल निवेश ₹3.60 लाख से बढ़कर ₹4.63 लाख हो गया होगा। इसका मतलब है कि निवेश पर 17.09% का रिटर्न मिला है।

वहीं, पिछले पांच वर्षों में ₹10000 का मंथली SIP किया है तो आपका कुल निवेश ₹6 लाख से बढ़कर ₹8.37 लाख हो गया। इससे निवेशकों को 13.30% रिटर्न मिला है। इसी तरह, सात साल की अवधि में ₹10000 के मासिक एसआईपी पर आपका रिटर्न ₹13.13 लाख हो जाता है।

ये पढ़ें-कपड़ा कंपनी Raymond के शेयर में रिकॉर्ड तेजी, एक दिन में ₹260 चढ़ा भाव

बता दें कि फंड की 10 होल्डिंग्स में आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, एसबीआई, एचडीएफसी लिमिटेड, कोटक महिंद्रा बैंक, करूर वैश्य बैंक, आईडीएफसी फर्स्ट बैंक शामिल हैं।