ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News BusinessTata group stock tata power share surges 2 percent today after this news Business News India

टाटा की इस कंपनी को मिला ठेका, शेयर बना रॉकेट, खरीदने की मच गई लूट, ₹274 पर आया भाव

Tata Power Share: टाटा पावर लिमिटेड के शेयर बुधवार को फोकस में हैं। कंपनी के शेयरों में आज शुरुआती कारोबार में ही 2% से अधिक की तेजी देखने को मिली और यह 274.05 रुपये पर पहुंच गए।

टाटा की इस कंपनी को मिला ठेका, शेयर बना रॉकेट, खरीदने की मच गई लूट, ₹274 पर आया भाव
Varsha Pathakलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 Nov 2023 10:49 AM
ऐप पर पढ़ें

Tata Power Share: टाटा पावर लिमिटेड के शेयर बुधवार को फोकस में हैं। कंपनी के शेयरों में आज शुरुआती कारोबार में ही 2% से अधिक की तेजी देखने को मिली और यह 274.05 रुपये पर पहुंच गए। शेयरों में इस तेजी के पीछे बड़ी वजह है। दरअसल, टाटा पावर की एक सहायक कंपनी- टाटा पावर रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (टीपीआरईएल) को 200 मेगावाट की फर्म और डिस्पैचेबल रिन्यूएबल एनर्जी (एफडीआरई) विकसित करने के लिए ठेका मिला है। यह ठेका SJVN की तरफ से मिला है। 

क्या है डिटेल
कंपनी की सहायक कंपनी टाटा पावर रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (टीपीआरईएल) को एसजेवीएन के साथ 200 मेगावाट की फर्म और डिस्पैचेबल रिन्यूएबल एनर्जी (एफडीआरई) परियोजना विकसित करने का काम सौंपा गया है। कंपनी ने कहा कि प्लांट को सौर, पवन और उपयुक्त क्षमताओं के बैटरी भंडारण के मिश्रित संयोजन के साथ सावधानीपूर्वक आकार दिया गया है। एफडीआरई चौबीसों घंटे बिजली की आपूर्ति प्रदान करता है और नवीकरणीय खरीद दायित्व (आरपीओ) और ऊर्जा भंडारण दायित्व (ईएसओ) को पूरा करने में डिस्कॉम का समर्थन करता है।

आज से ओपन हो रहा यह IPO, प्राइस बैंड ₹126, निवेश का मौका

60,000 करोड़ रुपये निवेश की योजना
एनर्जी सेक्टर की कंपनी टाटा पावर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक प्रवीर सिन्हा ने मंगलवार को कहा कि कंपनी अगले तीन सालों में 60,000 करोड़ रुपये निवेश करेगी जिसका आधा हिस्सा रिन्यूएबल  एनर्जी  सेक्टर में लगाया जाएगा। सिन्हा ने संवाददाताओं के साथ बातचीत में यह जानकारी देते हुए कहा कि इस अवधि में कंपनी कोयला पर आधारित किसी नई संयंत्र को नहीं जोड़ेगी। उन्होंने कहा कि टाटा पावर वित्त वर्ष 2023-24 में 15,000 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है जो वित्त वर्ष 2024-25 में बढ़कर करीब 20,000 करोड़ रुपये हो जाएगा। इसके वित्त वर्ष 2025-26 में 22,000 करोड़ रुपये और 2026-27 में 23,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। इस तरह अगले तीन वित्त वर्षों में टाटा पावर का कुल पूंजीगत व्यय 60,000 करोड़ रुपये से अधिक रहेगा।

सिन्हा ने कहा कि 13,000 करोड़ रुपये के निवेश से 2,800 मेगावाट की दो जल-विद्युत पंप भंडारण परियोजनाएं (पीएसपी) स्थापित करने की पिछली घोषणा के साथ ही कंपनी ने 9,000 मेगावाट क्षमता वाली ऐसी तीन अन्य परियोजनाएं भी चिह्नित की हैं। ये परियोजनाएं महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के पोटलपली, कटालधारा और नेनावली में मौजूद हैं। इसके साथ ही कंपनी ने भिवपुरी और शिरवटा स्थित दो पीएसपी से पैदा होने वाली बिजली के लिए कोई खरीदा समझौता नहीं किया है। उन्होंने इन परियोजनाओं को सौर और पवन ऊर्जा क्षमता से जोड़ने के भी संकेत दिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें