DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक से ज्यादा टर्म प्लान लेना नहीं है समझदारी, जानें क्यूं..

term insurance

किसी भी प्रकार का निवेश या इंश्योरेंस खरीदने से पहले हम अपने परिचितों से सलाह लेते हैं और अपनी जरूरतों का ध्यान दिए इसे बगैर इसे खरीद लेते हैं। अपने परिचितों की सलाह लेने की तुलना में आप वित्तीय विशेषज्ञों की सलाह या ऑनलाइन जानकारी लेना ज्यादा समझदारी है। टर्म प्लान भी ऐसा ही एक जरूरी निवेश है। विशेषज्ञों का कहना है कि हमें कई कंपनियों से अलग-अलग टर्म इंश्योरेंस लेने के फेर में नहीं पड़ना चाहिए, बल्कि ऐसी समग्र पॉलिसी पर ध्यान दें जो आपकी जरूरतों पर खरी उतरती हो। 

क्लेम के चक्कर में लेते हैं ज्यादा पॉलिसी 

अक्सर लोग अलग कंपनियों से टर्म प्लान इसलिए लेते हैं, जिससे कि अगर उनका एक क्लेम रद्द हो जाए तो कम से कम दूसरा पास हो जाएगा। मान लीजिए कि कोई एक करोड़ रुपये का टर्म इंश्योरेंस लेने की बजाय 25-25 लाख रुपये के चार प्लान लेता है या 50-50 लाख के दो प्लान लेता है। उसे यह समझना चाहिए कि अगर किसी कारण से एक क्लेम खारिज होता है, तो वही कारण दूसरे पर भी लागू होता है। 

क्यों है टर्म इंश्योरेंस लेना जरूरी
अगर आपका परिवार (माता-पिता, बच्चे और पत्नी) आप पर आर्थिक रूप से निर्भर हैं तो टर्म प्लान लेना जरूरी है। नौकरी लगने के बाद तो टर्म इंश्योरेंस लेना बेहतर होता है। आप प्रीमियम भुगतान में भी काफी समर्थ हो जाते हैं। समय के साथ इसका कवर चाहें तो बढ़ा सकते हैं। 

SBI ने होम लोन पर घटाई ब्याज दरें, 30 लाख तक के कर्ज पर कम होगी EMI

कितनी होनी चाहिए राशि
पॉलिसीबाजार में जीवन बीमा शाखा की क्लस्टर हेड और एसोसिएट डायरेक्टर संतोष अग्रवाल ने कहा कि पारिवारिक जरूरतों और आय को देखते हुए पर्याप्त कवरेज वाली पॉलिसी लेनी चाहिए। लाइफ टर्म कवर कम से कम सालाना आय के 15 से 20 गुना तक होना चाहिए। 

यह कोई निवेश योजना नहीं है..
विशेषज्ञों का कहना है कि टर्म इंश्योरेंस के मामले में निवेश की सोच नहीं रखनी चाहिए। निवेश के मामले में विशेषज्ञों की राय रहती है कि थोड़ा पैसा सुरक्षित योजनाओं में, थोड़ा इक्विटी और थोड़ा सेवानिवृत्ति की योजना में लगाना चाहिए। टर्म प्लान के दौरान अगर दुर्भाग्यवश बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है तो कवर की पूरी राशि उसके नॉमिनी को मिलती है।.

इन बातों का रखें ध्यान
- सस्ते के चक्कर में किसी भी कंपनी की पॉलिसी न लें
- पॉलिसी में बीमारी या आदतों की सही जानकारी दें। परिवार से जुड़ी बातों को भी न छिपाएं।
- टर्म प्लान लेते समय इससे जुड़ी शर्तों को ध्यानपूर्वक पढ़ें और पूरी स्पष्टता के बाद ही इसे खरीदें। दुर्घटना या गंभीर बीमारियां अगर इसमें कवर नहीं हैं तो अलग से राइडर भी लिया जा सकता है। हालांकि इसके लिए कुछ ज्यादा प्रीमियम चुकाना होगा।  
8 लाख रुपये से कम दाम में होंडा अमेज एक्सक्लूसिव एडिशन लॉन्च, ये हैं खासियत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Take expert advice before taking term plan