DA Image
20 अक्तूबर, 2020|6:32|IST

अगली स्टोरी

दो दिन की मायूसी के बाद शेयर बाजार में लौटी रौनक, निफ्टी 10400 के पार, सेंसेक्स ने लगाई 498अंकों की छलांग

stock market  sensex and nifty

दो दिन की मायूसी के बाद आज शेयर बाजार में थोड़ी रौनक दिखी। आज शेयर बाजा बढ़त के साथ बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 498.65  अंकों की छलांग के साथ 35,414.45 के स्तर पर बंद हुआ तो वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक निफ्टी भी 128 अंकों की उछाल के साथ 10434 पर बंद हुआ। मिडकैप 74 अंक चढ़कर 14778 पर बंद हुआ है। वहीं, बैंक निफ्टी 607 अंकों कर छलांग के साथ 21,978 पर बंद हुआ। निफ्टी के 50 में से 26 शेयरों में खरीदारी रही। बैंक निफ्टी के 12 में से 10 शेयरों में तेजी रही।

निफ्टी टॉप गेनर में एक्सिस बैंक 6.34 फीसद, यूपीएल 5.27 फीसद की बढ़त के साथ बंद हुए। वहीं बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी और आईटीसी भी हरे निशान के साथ बंद हुए। टॉप लूजर में एनटीपीसी, नेस्ले, एएंड टी, श्रीसीमेंट और सिप्ला प्रमुख रहे।

दोपहर में सेंसेक्स 442 अंकों की छलांग के साथ अब 35,358 के स्तर पर पहुंच गया जबकि, निफ्टी भी 112.30 (1.09%) अंकों की तेजी के साथ 10,414.40 के स्तर पर पहुंचा। वहीं शुरुआती बढ़त के बाद विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया नौ पैसे की गिरावट के साथ 75.60 (अनंतिम) के भाव पर बंद हुआ।

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: सस्ता सोना भूल जाइए, आज टूट गए सारे रिकॉर्ड, जानें 1 जुलाई का ताजा भाव

आज शेयर बाजार की शुरुआत बढ़त के साथ हुई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 93 अंकों की तेजी के साथ 35009 के स्तर पर खुला तो वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का संवेदी सूचकांक निफ्टी भी दिन के कारोबार की शुरुआत हरे निशान से की। निफ्टी आज 10,323.80 के स्तर पर खुला। निफ्टी टॉप गेनर में यूपीएल, बीपीसीएल, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज ऑटो और भारती एयरटेल जैसे प्रमुख स्टॉह हैं तो वहीं टॉप लूजर में ओएनजीसी, कोटक बैंक, एनटीपीसी, जी लिमिटेड, एल एंड टी जैसे स्टॉक हैं।

रुपये की तेजी थमी, नौ पैसे टूटा

कच्चे तेल की कीमतों में उछाल से रुपये की तीन दिन की तेजी पर आज ब्रेक लग गया और बुधवार को अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में यह नौ पैसे की गिरावट के साथ 75.60 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। पिछले तीन कारोबारी दिवस में भारतीय मुद्रा 21 पैसे मजबूत हुई थी। मंगलवार को यह सात पैसे की बढ़त में 75.51 रुपये प्रति डॉलर पर रही थी। रुपये की शुरुआत मजबूती के साथ हुई। दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में रही नरमी के दम पर यह दो पैसे की बढ़त में 75.49 रुपये प्रति डॉलर पर खुला, लेकिन इसके बाद दबाव में आ गया। कच्चे तेल में एक फीसदी से अधिक की तेजी से इसका ग्राफ लुढ़क गया हालाँकि नरमी सीमित रही। कारोबार की समाप्ति तक 75.60 रुपये प्रति डॉलर के दिवस के निचले स्तर तक उतरने के बाद रुपया इसी भाव पर बंद हुआ। कारोबारियों ने बताया रिजर्व बैंक ने वाणिज्यिक बैंकों के माध्यम से डॉलर की खरीद की जिससे रुपया दबाव में आ गया। घरेलू शेयर बाजार की तेजी से रुपये को समर्थन मिला। 

मजबूत मांग से कच्चा तेल वाायदा कीमतों में तेजी

मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा कारोबार में बुधवार को कच्चातेल की कीमत 28 रुपये की तेजी के साथ 3,043 रुपये प्रति बैरल हो गई। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में कच्चातेल के जुलाई माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 28 रुपये अथवा 0.93 प्रतिशत की तेजी के साथ 3,043 रुपये प्रति बैरल हो गई जिसमें 3,415 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा अपने सौदों के आकाार को बढ़ाने के कारण यहां वायदा कारोबार में कच्चातेल वायदा कीमतों में तेजी आई। वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट कच्चातेल की कीमत 2.37 प्रतिशत की तेजी के साथ 40.20 डॉलर प्रति बैरल हो गई, जबकि ब्रेंट क्रूड की कीमत 2.28 प्रतिशत की तेजी के साथ 42.21 डॉलर प्रति बैरल हो गई।

मंगलवार का हाल: शेयर बाजार ने शुरुआती लाभ गंवाया

निवेशकों द्वारा सतर्कता बरतने से सेंसेक्स ने मंगलवार को शुरुआती लाभ को गंवा दिया और यह 46 अंक के नुकसान के साथ बंद हुआ। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय 272.39 अंक चढ़ गया था। अंत में सेंसेक्स 45.72 अंक या 0.13 प्रतिशत के नुकसान के साथ 34,915.80 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10.30 अंक या 0.10 प्रतिशत के नुकसान से 10,302.10 अंक पर बंद हुआ। 

शेयर-डिबेंचर पर एक दर से स्टॉम्प शुल्क आज से

 वित्त मंत्रालय ने शेयर और डिबेंचर सहित प्रतिभूतियों की लेन-देन पर राज्यों को एक दर से स्टॉम्प शुल्क लगाने की अनुमति एक जुलाई से दे दी है। मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी एक बयान में यह बात कही गई है। बयान के मुताबिक खरीदार या ब्रोकर किसी एक से ही यह शुल्क वसूला जा सकता है। माना जा रहा है कि इस कदम से शेयर और उससे जुड़े निवेश विकल्पों को लेकर लोग प्रोत्साहित होंगे।  मौजूदा समय में यह शुल्क खरीदार या ब्रोकर या विक्रेता दोनों से लिया जाता है। साथ ही विभिन्न राज्यों में शुल्क की दरें भी अलग हैं। मंत्रालय का मानना है कि एक दर होने राजस्व वसूली बेहतर होगी और उसपर खर्च कम आएगा। इसके अलावा इसको लेकर कानूनी विवाद को कम करने भी मदद मिलेगी।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Stock market opens with gains Sensex 35000 then Nifty opens above 10380