DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › कल के स्टार्टअप अब IPO के जरिए बड़े खिलाड़ियों को पछाड़ने की होड़ में
बिजनेस

कल के स्टार्टअप अब IPO के जरिए बड़े खिलाड़ियों को पछाड़ने की होड़ में

नई दिल्ली। स्वराज सिंह धंजलPublished By: Drigraj Madheshia
Fri, 30 Jul 2021 08:16 AM
कल के स्टार्टअप अब  IPO के जरिए बड़े खिलाड़ियों को पछाड़ने की होड़ में

कल के स्टार्टअप अब शेयर बाजार में उतरकर बड़े खिलाड़ियों को पछाड़ने की होड़ कर रहे हैं। पेटीएम, मोबिक्विक, नाइका, पालिसी बाजार जैसे बड़े स्टार्टअप आईपीओ लाने की तैयारी में हैं, जबकि हाल ही में जोमैटो आईपीओ आने के बाद बाजार में सूचीबद्धता के पहले ही दिन एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की पूंजी वाली कंपनी बन गई। बाजार में उतरने पर सेबी की सख्त निगरानी के बावजूद स्टार्टअप का आईपीओ लाने की होड़ को विशेषज्ञ उत्साहजनक और छोटे निवेशकों के लिए फायदेमंद मान रहे हैं।

कौन कितने का ला रहा है IPO

  • 16600 करोड़ रुपये का आईपीओ लाने वाली है पेटीएम
  • 1900 करोड़ रुपये का आईपीओ मोबिक्विक लाने वाली है
  • 5000 करोड़ रुपये तक का आईपीओ लाएगा नायका
  • 6500 करोड़ का आईपीओ लाने की तैयारी में पॉलिसी बाजार
  • 3700 करोड़ का आईपीओ लाएगी फार्मइजी
  • 1500 करोड़ का आईपीओ लाएगी आईक्सिगो

बाजार से जुड़ने पर पूंजी जुटाना आसान

आईपीओ से पहले कंपनियां प्राइवेट लिमिटेड रहती हैं। जबकि उसके बाद उनके नाम में पब्लिक लिमिटेड जुड़ जाता है। इसमें कंपनियों को कई तरह की रियायत मिलती है जिससे उनके लिए पूंजी जुटाना आसान हो जाता है।

प्रवर्तकों की मनमानी पर रोक

छोटे निवेशकों भी आईपीओ के जरिये उसमें हिस्सेदार हो जाते हैं। सेबी के नियमों के तहत सूचीबद्ध कंपनियों को छोटे निवेशकों के हितों का भी ध्यान रखना होता है और उनकी राय को तरजीह देनी होती है। इससे प्रवर्तकों की मनमानी पर अंकुश लग जाता है।

सेबी की सख्त निगरानी

एक बार सूचीबद्ध होने के बाद कंपनियां सेबी की सख्त निगरानी में आ जाती हैं। बोर्ड में नियमों के मुताबिक निदेशक रखने और हटाने के लिए सेबी की मंजूरी लेनी पड़ती है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह छोटे निवेशकों के हित के लिए अच्छा होता है।

कारोबार का खुलासा अनिवार्य

आईपीओ से पहले कंपनियों को सेबी के पास खुलासा दस्तावेज जमा करना होता है जिसे डीआरएचपी कहते हैं। इसमें कंपनी और उसके प्रर्वतक के बारे में हर तरह की जानकारी देनी होती है। इसमें थोड़ी भी गड़बड़ी मिलने पर सेबी आईपीओ की मंजूरी नहीं देता है। ऐसा कंई कंपनियों के साथ हो चुका होता है।

संबंधित खबरें