ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Businessspecial economic package of rs 20 lakh crore is 6 times the budget of Pakistan know how many in 20 lakh crores

पाकिस्तान के बजट से 6 गुना है भारत का राहत पैकेज, 20 लाख करोड़ में होते हैं इतने जीरो

कोरोना की मार से जूझ रहे भारत की अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की। यह रकम पाकिस्तान द्वारा 2019 में पेश किए गए उाके कुल...

पाकिस्तान के बजट से 6 गुना है भारत का राहत पैकेज, 20 लाख करोड़ में होते हैं इतने जीरो
लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 13 May 2020 11:20 AM
ऐप पर पढ़ें

कोरोना की मार से जूझ रहे भारत की अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की। यह रकम पाकिस्तान द्वारा 2019 में पेश किए गए उाके कुल बजट का 6 गुना है। साल 2019 में पाकिस्तान सरकार ने 7022 बिलियन पाकिस्तानी रुपये का बजट पेश किया था, भारतीय रुपये में यह रकम करीब 3.30 लाख करोड़ है। बता दें पाकिस्तान का एक रुपया भारत के 47 पैसे के बराबर है। इस लिहाज से भारत का राहत पैकेज पाकिस्तान के बजट से 6 गुना ज्यादा है। वहीं सोशल मीडिया पर यह सवाल ट्रेंड कर रहा कि 20 लाख करोड़ में कितने जीरो होते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दूं  20 लाख करोड़ यानी 20000000000000, जिसमें कुल 13 जीरो होते हैं।

यह भी पढ़ें: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज 4 बजे बताएंगी कैसे होगा 20 लाख करोड़ के पैकेज का इस्तेमाल

कोरोना संकट के बीच राष्ट्र के नाम अपने पांचवें संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस महामारी के खिलाफ जंग जारी रखने के साथ आत्मनिर्भर भारत की मजबूत बुनियाद भी रखी।  विषम आर्थिक हालात से निपटने के लिए देश के सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 10 फीसदी यानी बीस लाख करोड़ रुपये के विशेष आर्थिक पैकेज के साथ आत्मनिर्भर भारत बनाने का संकल्प लिया। भारतीय अर्थव्यवस्था 200 लाख करोड़ रुपये की है। भारत ने साल 2020-21 के लिए बजट में करीब 30 लाख करोड़ रुपये निर्धारित किया है।  

यह भी पढ़ें: दुनिया के बड़े प्रोत्साहन पैकजों में से एक है भारत का आर्थिक पैकेज, चीन, इटली, ब्रिटेन से भी है बड़ा

देश GDP के मुकाबले पैकेज
जापान 21.10%
अमेरिका 13%
स्वीडन 12%
जर्मनी 10.70%
भारत 10.00%
फ्रांस 9.30%
स्पेन 7.30%
इटली 5.70%
ब्रिटेन 5.00%
चीन 3.80%

प्रधानमंत्री का यह संबोधन पिछले संबोधनों से अलग रहा। उन्होंने कहा कि यह आपदा कुछ संकेत के साथ संदेश भी लेकर आई है, जो आत्मनिर्भर भारत का रास्ता प्रशस्त करेगा, जिसमें स्वदेशी पर जोर होगा और लोकल के लिए हमें वोकल होना पड़ेगा। उन्होंने कोरोना संक्रमण के तेजी से हो रहे फैलाव से डरने के बजाय इस जंग को, मजबूती से लड़ने, साथ में देश को पूरी ताकत से खड़ा करने का ऐलान किया है।

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें