DA Image
18 जनवरी, 2021|11:14|IST

अगली स्टोरी

श्रीरामजन्मभूमि मंदिर निर्माण: निधि समर्पण अभियान में ठगी का शिकार होने से ऐसे बचें

shri ram janmabhoomi mandir nirman

रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला के मंदिर निर्माण के सिलसिले में श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से चलाए गए निधि समर्पण अभियान में रामभक्तों को ठगी से बचने का सुझाव दिया है। इसी सिलसिले में ट्रस्ट महासचिव चंपत राय ने बंगलुरु की संस्था संवाद डाट ओआरजी की ओर से जारी एक वीडियो को साझा किया है।

इस वीडियो में बताया गया कि आपकी ओर से समर्पित धनराशि सही बैंक व व्यक्ति तक जा रही है, यह सुनिश्चित करना चाहिए। बताया कि निधि समर्पण करने के लिए संगठन के कार्यकर्ता घर-घर जाएंगे। बताया गया कि ट्रस्ट ने पूरे देश में एक ही प्रकार का कूपन जारी किया है। यह कूपन दस, सौ व एक हजार का है। यदि आप 50 रुपये का योगदान देंगे तो दस रुपये के पांच कूपन दिए जाएंगे।

देश भर में केवल एक खाता

यदि पांच सौ का योगदान देंगे तो सौ-सौ के पांच कूपन दिए जाएंगे। बताया गया कि यदि आपके पास चेक या कैश नहीं है तो ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं लेकिन आपको सुनिश्चित करना होगा कि आपका भुगतान एसबीआई की अयोध्या शाखा के ही खाते में हो क्योंकि कि देश भर में इस प्रकार का दूसरा कोई खाता नहीं है। इसके लिए नेफ्ट, आरटीजीएस व आईएनपीएस माध्यमों का उपयोग कर सकते हैं। इसकी रसीद ट्रस्ट के वेबसाइट से दी जाएगी जो कि ट्रस्ट कार्यालय से निर्गत होगी। इस रसीद के लिए आपको यूटीआर का उपयोग करना होगा। बताया गया कि दो हजार से अधिक की राशि के समर्पण पर दी जाने वाली रसीद का उपयोग आयकर एक्ट की धारा 80 जी से संबन्धित छूट में की जा सकती है। 

इन नंबरों पर लें जानकारी

इसी तरह ट्रस्ट महासचिव ने बैंक संबन्धित किसी समस्या के निवारण के लिए एसबीआई के टोल फ्री नंबर 18001805155 व पीएनबी के टोल फ्री नंबर 18001809800 पर कार्यालय अवधि में फोन कर आवश्यक जानकारी ली सकती है। इसके साथ ही ट्रस्ट महासचिव ने एसबीआई के शाखा प्रबंधक का भी मोबाइल नंबर 8450982900 के अलावा बैंक आफ बड़ौदा के प्रबंधकों शशिधर त्रिपाठी के मोबाइल नंबर 8744907293 व रितेश सिंह का मोबाइल नंबर 9651895103 को भी सार्वजनिक किया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Shri Ram Janmabhoomi mandir nirman Avoid being a victim of fraud in Nidhi surrender campaign