Seven of top 10 firms lose Rs 86878 crore in market capital ITC takes biggest knock - टॉप सात कंपनियों को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ रुपए का नुकसान, टीसीएस सबसे आगे DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टॉप सात कंपनियों को बाजार पूंजीकरण में 86,880 करोड़ रुपए का नुकसान, टीसीएस सबसे आगे

TATA Consultancy Services

शीर्ष 10 घरेलू कंपनियों में से सात को बीते सप्ताह बाजार पूंजीकरण में सम्मिलित तौर पर 86,879.7 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा। एफएमसीजी कंपनी आईटीसी का बाजार पूंजीकरण इस दौरान सर्वाधिक कम हुआ। आलोच्य सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और भारतीय स्टेट बैंक का बाजार पूंजीकरण कम हुआ। टीसीएस, हिंदुस्तान यूनिलीवर और इंफोसिस का बाजार पूंजीकरण इस दौरान बढ़ा।

इस दौरान आईटीसी का बाजार पूंजीकरण 20,748.4 करोड़ रुपये कम होकर 2,89,740.59 करोड़ रुपये, भारतीय स्टेट बैंक का 17,715.4 करोड़ रुपये गिरकर 2,41,946.22 करोड़ रुपये, एचडीएफसी बैंक का 17,335.3 करोड़ रुपये टूटकर 5,91,490.98 करोड़ रुपये और आईसीआईसीआई बैंक का बाजार पूंजीकरण 15,084.5 करोड़ रुपये लुढ़ककर 2,55,484.91 करोड़ रुपये पर आ गया।

श्रमिकों को न्यूनतम वेतन मिलने का रास्ता साफ

इसी तरह एचडीएफसी का बाजार पूंजीकरण 9,921.2 करोड़ रुपये गिरकर 3,52,202.72 करोड़ रुपये, कोटक महिंद्रा बैंक का एमकैप 5,155.85 करोड़ रुपये कम होकर 2,81,185.14 करोड़ रुपये और रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 919.16 करोड़ रुपये लुढ़ककर 8,08,836 करोड़ रुपये पर आ गया।

हालांकि इस दौरान टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 31,538.79 करोड़ रुपये मजबूत होकर 8,43,367.22 करोड़ रुपये, इंफोसिस का बाजार पूंजीकरण 11,746.94 करोड़ रुपये की बढ़त के साथ 3,44,419.45 करोड़ रुपये और हिंदुस्तान यूनिलीवर का बाजार पूंजीकरण 7,176.31 करोड़ रुपये बढ़कर 4,02,512.28 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

बाजार पूंजीकरण के हिसाब से टीसीएस शीर्ष पर बनी रही। इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, इंफोसिस, आईटीसी, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एसबीआई का स्थान रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Seven of top 10 firms lose Rs 86878 crore in market capital ITC takes biggest knock