ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News BusinessSEBI is preparing to give big relief to investors regarding demat accounts

डीमैट खातों को लेकर निवेशकों को बड़ी राहत देने की तैयारी कर रहा सेबी

12 माह तक शेयर की खरीद-बिक्री न होने पर डीमैट खाता निष्क्रिय माना जाएगा। हालांकि, म्यूचुअल फंड एसआईपी, राइट्स इश्यू की अर्जी दी गई, तो खाता सक्रिय माना जाएगा। बोनस, स्टॉक स्प्लिट मान्य नहीं होगी।

डीमैट खातों को लेकर निवेशकों को बड़ी राहत देने की तैयारी कर रहा सेबी
Drigraj Madheshiaनई दिल्ली, एजेंसी।Wed, 08 Nov 2023 05:37 AM
ऐप पर पढ़ें

बाजार नियामक सेबी डीमैट खातों को निष्क्रिय घोषित करने की समयसीमा बढ़ाने की तैयारी में है। सेबी के नए प्रस्ताव के तहत अब 12 महीने तक डीमैट खाते में किसी तरह का लेनदेन न होने पर उसे निष्क्रिय माना जाएगा। पहले यह समय अवधि छह माह थी। माना जा रहा है कि इस कदम से खाता धारकों को बड़ी राहत मिलेगी।

बताया जा रहा है कि डीमैट खातों की डॉरमेंसी (निष्क्रियता) पर सेबी के नए नियम जल्द लागू हो सकते हैं। सभी एक्सचेंज और डिपॉजिटरीज में एक समान नियम लागू होंगे। मौजूदा नियमों के मुताबिक शेयर बाजार में सक्रिय डीमैट खाता या सक्रिय निवेशक उसे माना जाता है, जो सालभर में कम से कम एक बार शेयर खरीदने या बेचने के लिए सौदा डालता है।

75 फीसदी खाते सक्रिय नहीं: सेबी की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में डीमैट खातों की संख्या तो रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है, लेकिन सक्रिय ट्रेडर्स के आंकड़ों में गिरावट देखी जा रही है। आंकड़े के मुताबिक, पिछले साल तक देश में सक्रिय डीमैट खातों का आंकड़ा 3.5 करोड़ के करीब था, जो इस साल मार्च के अंत में घटकर 3.19 करोड़ रह गया। वहीं, अगस्त में सिर्फ 3.15 सक्रिय खाते ही बचे थे। यानी कुल डीमैट खातों में 75 फीसद से ज्यादा सक्रिय नहीं हैं।

ऐसे मामलों में माना जाएगा सक्रिय: नए प्रस्‍ताव के मुताबिक, 12 माह तक शेयर की खरीद-बिक्री न होने पर डीमैट खाता निष्क्रिय माना जाएगा। हालांकि, म्यूचुअल फंड एसआईपी, राइट्स इश्यू आदि की अर्जी दी गई, तो खाता सक्रिय माना जाएगा। बोनस, स्टॉक स्प्लिट आदि मान्य नहीं होंगे।

यह भी पढ़ेंपैसा लेकर हो जाइए तैयार! आ रहा है एक और IPO, सेबी का मिला अप्रूवल

खाते खुलवाने की रफ्तार धीमी हुई:शेयर बाजार में अस्थिरता के बीच अक्टूबर में डीमैट खाता खुलवाने की रफ्तार गति धीमी पड़ी है। पिछले महीने कुल 26.8 लाख नए खाते खोले गए। सितंबर में यह आंकड़ा 30.6 लाख था। पिछले दो माह से 30 लाख नए खाते खुल रहे थे लेकिन अक्तूबर में यह इससे कम रहा। इसके साथ ही देश में कुल डीमैट खातों की संख्या 13.2 करोड़ पहुंच गई है।

महिलाओं की हिस्सेदारी बढ़ी: शेयर बाजार में ट्रेडिंग के लिए खुलने वाले डीमैट खातों में महिलाओं की हिस्सेदारी भी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2018 में महिलाओं की हिस्सेदारी करीब 15 फीसदी तक थी, जो अब बढ़कर 20 फीसदी तक पहुंच गई है।

बीते 10 माह में खुले खाते

  • जनवरी 21.9 लाख
  • फरवरी 20.8 लाख
  • मार्च 19.2 लाख
  • अप्रैल 16 लाख
  • मई 21 लाख
  • जून 23.6 लाख
  • जुलाई 29.7 लाख
  • अगस्त 31 लाख
  • सितंबर 30.6 लाख
  • अक्टूबर 26.8 लाख

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें