Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़SEBI bars guest experts and firms giving stock market tips on this zee business tv channel

इस बिजनेस चैनल पर शेयर मार्केट टिप्स देने वाले एक्सपर्ट्स और फर्मों पर सेबी ने लगाई पाबंदी

SEBI in Action: सेबी ने जी बिजनेस पर आने वाले गेस्ट एक्सपर्ट्स समेत 10 फर्मो को इक्विटी मार्केट से प्रतिबंधित कर दिया है। शेयरों में हेराफेरी के जरिये इनके द्वारा जुटाए गए 7.41 करोड़ रुपये जब्त।

Drigraj Madheshia एजेंसी, नई दिल्लीFri, 9 Feb 2024 06:00 AM
हमें फॉलो करें

बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड सेबी ने गुरुवार को जी बिजनेस पर आने वाले गेस्ट एक्सपर्ट्स समेत 10 फर्मो को इक्विटी मार्केट से प्रतिबंधित कर दिया। इसके साथ ही सेबी ने शेयरों में कथित हेराफेरी के जरिये इनके द्वारा जुटाए गए 7.41 करोड़ रुपये के गैरकानूनी लाभ को जब्त करने का निर्देश भी दिया है। सेबी ने अपनी जांच में पाया कि कुछ गेस्ट एक्सपर्ट समाचार चैनल 'जी बिजनेस' पर शेयर संबंधी अपनी सिफारिशों के प्रसारण से पहले ही कुछ फर्मों को अपनी अनुशंसाओं के बारे में अग्रिम जानकारी साझा कर देते थे। 

सेबी ने दन पर की कार्रवाई: सेबी ने अपने अंतरिम आदेश में कहा कि अतिथि विशेषज्ञों किरण जाधव, आशीष केलकर, हिमांशु गुप्ता, मुदित गोयल और सिमी भौमिक से शेयर अनुशंसा संबंधी अग्रिम जानकारी के आधार पर निर्मल कुमार सोनी, पार्थ सारथी धर, एसएएआर कमोडिटीज प्राइवेट लिमिटेड, मनन शेयरकॉम प्राइवेट लिमिटेड और कन्हैया ट्रेडिंग कंपनी ने उन सौदों को पूरा कर लाभ कमाया।

सेबी ने कहा कि इन संस्थाओं ने ऐसे शेयर सौदों के निपटान से 7.41 करोड़ रुपये का गैरकानूनी लाभ कमाया और इस लाभ को सहमति के तहत अतिथि विशेषज्ञों के साथ साझा भी किया गया। नियामक ने कहा कि इस तरह ये सभी संस्थाएं सौदा निपटान से हुई आय को जब्त करने के लिए संयुक्त रूप से और अलग-अलग उत्तरदायी हैं।

कोई गेस्ट एक्सपर्ट तो प्रॉफिट मेकर: सेबी ने उन्हें तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया है। जाधव, केलकर, गुप्ता, गोयल और भौमिक दर्शकों को ट्रेडिंग एडवाइज देने में शामिल थे और उन्हें 'गेस्ट एक्सपर्ट' के रूप में वर्गीकृत किया गया है। सोनी, धार, सार कमोडिटीज, मनन शेयरकॉम और कन्ह्या ट्रेडिंग को 'प्रॉफिट मेकर' कहा गया है और बाकी को 'एनेबलर्स'।

कब हुई थी जांच: फरवरी और दिसंबर 2022 के बीच चली सेबी की जांच में बैंक और अन्य डिटेल्स के साथ एसएमएस, व्हाट्सएप और टेलीग्राम चैट का विश्लेषण शामिल था। कुछ गेस्ट एक्सपर्ट ने शो से पहले सिफारिशें शेयर करने की बात स्वीकार की और सेबी को दिए गए बयानों में प्रॉफिट शेयरिंग मॉडल को स्वीकार किया।

सेबी ने अपनी जांच के तहत तलाशी और जब्ती अभियान भी चलाया था और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को जब्त किया था। सेबी ने संस्थाओं के बैंक खातों से डेबिट को बैन कर दिया है और उनकी म्यूचुअल फंड होल्डिंग्स से रिडम्पशन को कम कर दिया है। इसके अलावा उन्हें डेरिवेटिव मार्केट में में अपनी ओपन पोजीशन को बंद करने के लिए तीन महीने की अनुमति दी है।

21 दिन में जवाब दाखिल करने का मौका:सेबी ने संस्थाओं को इस मामले में अपना जवाब दाखिल करने के लिए 21 दिन का समय दिया है और जी मीडिया को अंतिम आदेश पारित होने तक अपने शो के सभी रिकॉर्ड, दस्तावेज और वीडियो रिकॉर्डिंग को सुरक्षित रखने का निर्देश दिया है।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें