Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़SEBI alerts investors now fraud through WhatsApp Group Telegram Channel Social Media Message

सेबी ने निवेशकों को किया अलर्ट, अब व्हाट्सएप-टेलीग्राम के जरिए धोखाधड़ी

SEBI Alert: एफपीआई या एफआईआई के माध्यम से शेयर बाजार तक पहुंच की सुविधा उपलब्ध कराने का दावा करने वाले किसी भी सोशल मीडिया संदेश, व्हाट्सएप ग्रुप, टेलीग्राम चैनल या ऐप से दूर रहें।

सेबी ने निवेशकों को किया अलर्ट, अब व्हाट्सएप-टेलीग्राम के जरिए धोखाधड़ी
Drigraj Madheshia लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 06:54 AM
हमें फॉलो करें

पूंजी बाजार नियामक सेबी ने सोमवार को निवेशकों को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI) मार्ग के माध्यम से शेयर बाजार में कारोबार की सुविधा देने का दावा करने वाले कारोबारी मंचों को लेकर आगाह किया। नियामक ने कहा कि ये मंच कुछ और नहीं बल्कि धोखाधड़ी में शामिल हैं। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) ने इस बात को संज्ञान में लिया है कि धोखाधड़ी करने वाले शेयर बाजार में ऑनलाइन ट्रेडिंग पाठ्यक्रमों, सेमिनार आदि के जरिये लोगों को लुभा रहे हैं।

सेबी ने निवेशकों को सावधान करते हुए कहा है कि वे सेबी के साथ रजिस्टर्ड एफपीआई या एफआईआई के माध्यम से शेयर बाजार तक पहुंच की सुविधा उपलब्ध कराने का दावा करने वाले किसी भी सोशल मीडिया मैसेज, व्हाट्सएप ग्रुप, टेलीग्राम चैनल या ऐप से दूर रहें। ऐसी योजनाएं धोखाधड़ी वाली हैं। 

ऐसे करते हैं धोखाधड़ी: इसके लिए वे व्हाट्सएप या टेलीग्राम जैसे सोशल मीडिया मंचों का उपयोग कर रहे हैं। सेबी ने कहा कि खुद को सेबी-रजिस्टर्ड एफपीआई के कर्मचारी या सहयोगी के रूप में प्रस्तुत करते हुए, वे व्यक्तियों को ऐसे एप्लिकेशन डाउनलोड करने के लिए कहते हैं, जो कथित तौर पर उन्हें शेयर खरीदने, आईपीओ की सदस्यता लेने और 'संस्थागत खाता लाभ' उठाने की अनुमति देते हैं। और यह भी कहा जाता है कि इसके लिए आधिकारिक ट्रेडिंग या डीमैट खाते की जरूरत नहीं है।

बाजार नियामक ने कहा कि ये सब प्राय: अपनी योजनाओं को संचालित करने के लिए गलत नामों के तहत रजिस्टर्ड मोबाइल नंबरों का उपयोग करते हैं। सेबी को धोखाधड़ी वाले कारोबारी मंचों के बारे में कई शिकायतें मिली थीं। उसके बाद नियामक ने निवेशकों को इस बारे में आगाह किया है।

शिकायत के अनुसार, ऐसे मंचों ने एफपीआई के साथ संबद्ध होने का झूठा दावा किया था। इसमें विशेष सुविधाओं के साथ एफपीआई या संस्थागत खातों के माध्यम से कारोबार के अवसर उपलब्ध कराने का दावा किया गया था। एफपीआई नियमन के तहत कुछ अपवादों को छोड़कर सेबी का एफपीआई निवेश मार्ग भारतीय नागरिकों के लिए उपलब्ध नहीं है।

डीमैट खाता रखना जरूरी

इसके अलावा, कारोबार में 'संस्थागत खाते' का कोई प्रावधान नहीं है। साथ ही, शेयर बाजार तक सीधी पहुंच के लिए निवेशकों को क्रमशः सेबी रजिस्टर्ड ब्रोकर और डिपॉजिटरी भागीदार के साथ डीमैट खाता रखना आवश्यक है। नियामक ने साफ किया कि उसने भारतीय निवेशकों के लिए प्रतिभूति बाजार में निवेश के संबंध में एफपीआई को कोई छूट नहीं दी है।


 

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें