DA Image
2 जून, 2020|10:51|IST

अगली स्टोरी

SBI के ग्राहक ध्यान दें! EMI रोकने और कटी हुई का रिफंड पाने के लिए ये करें

 sbi

अगर आप एसबीआई के ग्राहक हैं और आप भी अपनी ईएमआई रुकवाना चाहते हैं या फिर मार्च की कटी हुई ईएमआई वापस पाना चाहते हैं तो आपके लिए कुछ जरूरी बातें जाननी होगी। बता दें कोरोना वारस की वजह से लॉकडाउन में कर्ज लेने वाले लोगों को राहत देने के लिए रिजर्व बैंक ने तीन महीने की EMI स्थगित करने (EMI Moratorium) का विकल्प दिया है।

यह भी पढ़ें:  एचडीएफसी के बाद एक्सिस बैंक ने भी ग्राहकों को दिया तीन महीने ईएमआई टालने का विकल्प

यानी कोई भी ग्राहक मार्च, अप्रैल और मई  की अपनी EMI चाहें तो रुकवा सकते हैं। इस विकल्प को एसबीआई, ICICI, एचडीएफसी, बैंक ऑफ बड़ौदा समेत कई बैंक अपने ग्राहकों को उपलब्ध करा चुके हैं, लेकिन RBI द्वारा यह विकल्प उपलब्ध कराए जाने से पहले ही मार्च माह की EMI कई लोंगों की कट गई।

 

मार्च की कटी हुई ईएमआई के रिफंड के लिए SBI ने ट्वीट कर बताया है कि अगर कोई ग्राहक तीन माह EMI स्थगित करना चाहता है लेकिन मार्च माह के लिए पैसा बैंक ने काट लिया है तो इसका रिफंड पाने के लिए दो विकल्प हैं-

  1. अगर ग्राहक ईमेल एक्सेस कर सकता है तो वह तय फॉर्मेट में बैंक को लोकेशन के हिसाब से तय ईमेल आईडी पर डिटेल्स मेल कर सकता है।
  2. अगर ग्राहक ईमेल नहीं कर सकता है तो वह सभी डिटेल्स के साथ हाथ से लिखी एप्लीकेशन SBI की अपनी होम ब्रांच में जाकर दे सकता है।

SBI ने कहा है कि कट चुकी EMI का रिफंड ग्राहक तक पहुंचने में 7 कामकाजी दिन लग सकते हैं। एप्लीकेशन फॉर्मेट और SBI की ईमेल आईडी के बारे में डिटेल https://bank.sbi/stopemi पर उपलब्ध हैं। जो ग्राहक अपने लोन की EMI होल्ड करना चाहते हैं, उन्हें बैंक को इस बारे में एप्लीकेशन देनी होगी।

लेकिन लगता रहेगा ब्याज

तीन महीने के लिए EMI होल्ड करने पर लोन चुकाने की वास्तविक अवधि में अतिरिक्त तीन महीने जुड़ जाएंगे, हालांकि EMI टलने के इन तीन महीनों की अवधि के दौरान ब्याज लगता रहेगा, जो बाद में एक्स्ट्रा EMI के तौर पर देना होगा। वहीं, जो ग्राहक अपनी EMI होल्ड नहीं करना चाहते, उन्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:SBI Customers Want to opt for EMI Moratorium and refund process of march emi cut by bank