DA Image
19 अक्तूबर, 2020|6:17|IST

अगली स्टोरी

डॉलर के मुकाबले रुपया 63 पैसे की बढ़त के साथ बंद

rupee vs dollar

घरेलू शेयर बाजारों के सकारात्मक रुख तथा अमेरिकी मुद्रा में कमजोरी के बीच बृहस्पतिवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 63 पैसे की बढ़त के साथ 73.13 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। शुरुआती कारोबार में रुपया 22 पैसे की बढ़त के साथ 73.54 प्रति डॉलर पर पहुंच गया था।  बुधवार को रुपया 73.76 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। इस बीच, छह मुद्राओं की तुलना में डॉलर का रुख दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.19 प्रतिशत के नुकसान से 93.70 पर आ गया। 

कारोबार के दौरान रुपया 73.07 प्रति डॉलर के उच्चस्तर तक गया। इसने 73.60 प्रति डॉलर का निचला स्तर भी छुआ। फॉरेक्स डीलरों ने कहा कि मजबूत वृहद आर्थिक आंकड़ों से रुपये की धारणा को बल मिला।  रेलिगेयर ब्रोकिंग की उपाध्यक्ष धातु, ऊर्जा और मुद्रा शोध सुगंधा सचदेवा ने कहा, ''घरेलू बाजार में डॉलर के सतत प्रवाह तथा मजबूत चालू खाते के अधिशेष की वजह से हम निकट भविष्य में रुपये के कुछ ऊपर की ओर कारोबार की उम्मीद कर रहे हैं।  इस बीच, छह मुद्राओं की तुलना में अमेरिकी मुद्रा का रुख दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.11 प्रतिशत के नुकसान से 93.78 पर आ गया। 

रुपये के मजबूत होने से इन क्षेत्रों को होगा लाभ

कच्चा तेल की कीमतों में रुपये की मजबूती से राहत मिलेगी, क्योंकि यह आयात किया जाता है। कच्चे तेल का आयात बिल में कमी आएगी और विदेशी मुद्रा कम खर्च करना होगा। वहीं रुपये की मजबूती से भारत में सस्ते कैपिटल गुड्स मिलेंगे। रुपये मजबूत हो तो इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र को भी लाभ हासिल होगा, क्योंकि सस्ते इलेक्ट्रॉनिक गु्ड्स आयात किए जा सकेंगे।  रुपये की मजबूती का सकारात्मक असर जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर पर दिखाई देगा। इससे यह सस्ता होगा और आयात पर भी इसका असर आएगा। 

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: सोने-चांदी की कीमतों में बदलाव, जानें 1 अक्टूबर का ताजा भाव

उर्वरक की कीमत घटेगी: भारत बड़ी मात्रा में जरूरी उर्वरकों और रसायन का आयत करता है। रुपये की मजबूती से यह भी सस्ता होगा। आयात करने वालों को यह कम दाम में ज्यादा मिलेगा। इससे इस क्षेत्र को सीधा फायदा होगा। साथ ही किसानों को भी लाभ होगा,उनकी लागत घटेगी, जिससे आय बढ़ेगी।
 
रुपये की मजबूती ने इन क्षेत्रों को झटका

रुपये की मजबूती से आईटी सेक्टर पर प्रतिकूल असर आएगा। कंपनियों को मिलने वाले काम पर आय कम होगी जिससे उनको नुकसान होगा। वहीं  दवा का निर्यात भी घटेगा। हालांकि, भारत बड़ी मात्रा में दवा और उसका कच्चा माल आायत करता है जिसमें उसे थोड़ी राहत मिलगी।  रुपया मजबूत होने से विदेशी में पढ़ाई करना महंगा हो जाएगा। साथ ही विदेश यात्रा भी महंगी हो जाएगी। रुपया मजबूत होता है तो टेक्सटाइल सेक्टर को निर्यात में काफी नुकसान होता है। टेक्सटाइल निर्यात में भारत वैश्विक रैकिंग में फिलहाल दूसरे स्थान पर मौजूद है। यदि रुपया मजबूत हुआ तो इस सेक्टर को भी काफी नुकसान होगा। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rupee zooms 63 paise to close at 73 point 13 against US dollar