DA Image
7 अप्रैल, 2021|2:06|IST

अगली स्टोरी

RTGS और NEFT के लिए अब नहीं लगाने होंगे बैंकों के चक्कर, RBI ने डिजिटल पेमेंट की लिमिट की दोगुनी 

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने नेशनल इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर (NEFT) और रियल टाइम ग्राॅस सेटेलमेंट (RTGS) सुविधा को नाॅन बैंक पेमेंट सिस्टम ऑपरेटरों के लिए बढ़ा दिया है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। अभी तक केवल बैंकों को ही यह सुविधा थी। इसके अलावा रिजर्व बैंक ने डिजिटल पेमेंट की लिमिट को भी एक लाख से बढ़ाकर दो लाख कर दिया है। 

आरबीआई: 2020-21 में जीडीपी ग्रोथ रेट 10.5 फीसदी रहने का अनुमान

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की नई एनाउंसमेंट के अनुसार अब प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट जारीकर्ता, कार्ड नेटवर्क, ह्वाइट लेबल एटीएम ऑपरेटर और ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंट सिस्टम प्लेटफार्म भी अब आरटीजीएस और एनईएफटी का उपयोग कर सकेंगे। प्रेस को सम्बोधित करते हुए आरबीआई गवर्नर ने कहा, 'रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा संचालित केन्द्रीय भुगतान प्रणाली आरटीजीएस और एनईएफटी की सदस्यता कुछ अपवादों को छोड़कर सिर्फ बैंक तक ही सीमित था। जिसका दायरा अब बढ़ाया जा रहा है' इससे सबसे ज्यादा फायदा पेटीएम, फोन पे, गूगल पेमेंट जैसे ऑनलाइन यूजर्स को होगा। 

46000 के करीब आया 10 ग्राम सोने का भाव, जानें आज का रेट

डिजिटल पेमेंट की लिमिट दो लाख तक बढ़ाई गई 

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने ट्रांसफर लिमिट को बढ़ाने का फैसला किया है। अब फोन पे, पेटीएम जैसे ऑनलाइन पेमेंट मोड के जरिए कस्टमर दो लाख रुपये तक ट्रांसफर कर पाएंगे। पहले यह लिमिट एक लाख रुपये तक ही थी। हालांकि इस लिमिट को 5 लाख रुपये तक बढ़ाने की मांग की जा रही थी। 

IMF की प्रमुख गीता गोपीनाथ ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर कही बड़ी बात

क्या है आरटीजीएस और एनईएफटी

आरटीजीएस फंड ट्रांसफर करने की एक तेज प्रक्रिया है। इस सिस्टम के जरिए आप एक बैंक अकाउंट से दूसरे में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। आरटीजीएस का फुल फार्म Real Time Gross Settlement है। आरटीजीएस और NEFT में अगर अंतर देखा जाए तो दोनों का काम बैंक अकाउंट में इलेक्ट्रानिक फंड ट्रांसफर है। एनईएफटी में जहां पैसे ट्रांसफर करने की कोई लिमिट नहीं है तो वहीं आरटीजीएस में आपको कम से कम दो लाख रुपये का ट्रांसफर करना होगा। एनईएफटी में फंड दूसरे खाते में पहुंचने में थोड़ा समय लगता है पर RTGS में यह तुरंत पहुंच जाता है। आईएमपीएस में तुरंत दूसरे के खाते में पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं। ये सर्विस सातों दिन 24 घंटे काम करती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:RTGS and NEFT will no longer have to go round with banks RBI doubles digital payment limit