DA Image
27 फरवरी, 2020|1:15|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्लास्टिक कचरे से सड़क बनाना हुआ आसान, रिलायंस ने प्रौद्योगिकी NHAI को देने की पेशकश की

उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएसएआई) को अपनी प्लास्टिक कचरे से सड़क निर्माण की प्रौद्योगिकी देने की पेशकश की है। इस प्रौद्योगिकी से सड़क निर्माण में प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जा सकेगा। कंपनी ने रायगढ़ जिले स्थित अपने नागोथाने विनिर्माण संयंत्र में इस प्रौद्योगिकी का परीक्षण किया है। इसके अलावा वह कई और पायलट परियोजनाओं पर काम कर रही है। कंपनी ने अपने संयंत्र में 50 टन प्लास्टिक अपशिष्ट को कोलतार के साथ मिलाकर करीब 40 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई है।

18 महीने में विकसित हुई प्रणाली

कंपनी के पेट्रोरसायन कारोबार के मुख्य परिचालन अधिकारी विपुल शाह ने संवाददाताओं से कहा, '' पैकेटबंद सामानों के खाली पैकेट, पॉलीथीन बैग जैसे प्लास्टिक अपशिष्ट का इस्तेमाल सड़क निर्माण में करने की प्रणाली विकसित करने में हमें करीब 14 से 18 महीने का वक्त लगा। हम इस अनुभव को साझा करने के लिए एनएचएआई के साथ बाचतचीत कर रहे हैं। ताकि सड़क निर्माण में प्लास्टिक अपशिष्ट का उपयोग किया जा सके।

यह भी पढ़ें: राजमार्ग इंजीनियरों को पदोन्नति से पहले अनिवार्य प्रशिक्षण का प्रस्ताव

एनएचएआई के अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज देशभर में राज्य सरकारों और स्थानीय निकायों को भी यह प्रौद्योगिकी सौंपने के लिए बातचीत कर रही है। कंपनी की यह प्रौद्योगिकी ऐसे प्लास्टिक अपशिष्ट के लिए विकसित की गई है जिसका रिसाइकिल संभव नहीं है।   इस अपशिष्ट के सड़क निर्माण में उपयोग से होने वाले लाभ के बारे में शाह ने कहा, ''यह ना सिर्फ प्लास्टिक के सतत उपयोग को सुनिश्चित करेगा, बल्कि वित्तीय तौर पर लागत प्रभावी भी होगा।
     
एक किलोमीटर सड़क बनाने में बचेंगे एक लाख रुपये

उन्होंने कहा कि हमारा अनुभव बताता है कि इस प्रौद्योगिकी से एक किलोमीटर लंबी सड़क बिछाने में एक टन प्लास्टिक अपशिष्ट का उपयोग होता है। इससे हमें एक लाख रुपये बचाने में मदद मिलती है और इस तरह हमने 40 लाख रुपये बचाए हैं। सड़क निर्माण में कोलतार के आठ से दस प्रतिशत तक उपयोग के विकल्प के तौर पर हम इस प्लास्टिक अपशिष्ट का उपयोग कर सकते हैं। इतना ही नहीं यह सड़क की गुणवत्ता को भी बढ़ाता है। इस प्रौद्योगिकी से सड़क निर्माण में दो महीने का समय लगा। साथ ही इस प्रणाली से बनी सड़क पिछले साल की मानूसनी बारिश में भी खराब नहीं हुई।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Reliance Industries offers to hand over plastic waste road making technology to nhai