DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  आरबीआई केंद्र सरकार को अपने सरप्लस 99,122 करोड़ रुपये ट्रांसफर करेगा
बिजनेस

आरबीआई केंद्र सरकार को अपने सरप्लस 99,122 करोड़ रुपये ट्रांसफर करेगा

एजेंसी,मुंबईPublished By: Drigraj Madheshia
Fri, 21 May 2021 04:58 PM
आरबीआई केंद्र सरकार को अपने सरप्लस 99,122 करोड़ रुपये ट्रांसफर करेगा

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई)  ने फैसला किया है कि वह केंद्र सरकार को अपने सरप्लस 99,122 करोड़ रुपए की रकम ट्रांसफर करेगा। केंद्रीय बैंक के बोर्ड ने 31 मार्च 2021 को समाप्त नौ महीने की लेखा अवधि के लिए सरकार को सरप्लस के रूप में 99,122 करोड़ रुपये के ट्रांसफर करने को मंजूरी दी। यह फंड मार्च 2021 तक समाप्त  9 महीनों में आरबीआई की जरूरतों से अलग है। आरबीआई ने फंड ट्रांसफर करने का यह फैसला रिजर्व बैंक के सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की 589वीं बैठक में ली गई है। आरबीआई के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की यह बैठक गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुवाई में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई।

यह भी पढ़ें: एसबीआई का मुनाफा चौथी तिमाही में 80 फीसद बढ़कर 6,451 करोड़ रुपये हुआ, निवेशकों के लिए 4 रुपये प्रति शेयर लाभांश का भी ऐलान

केंद्र सरकार को सरप्लस ट्रांसफर करने का निर्णय आरबीआई के केंद्रीय निदेशक मंडल की शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई बैठक में लिया गया। एक विज्ञप्ति के अनुसार आरबीआई बोर्ड ने अर्थव्यवस्था पर कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रकोप को कम करने के लिए वर्तमान आर्थिक स्थिति, वैश्विक और घरेलू चुनौतियों और हाल के नीतिगत उपायों की भी समीक्षा की। रिजर्व बैंक के लेखा वर्ष को अप्रैल-मार्च (पहले जुलाई-जून) में बदलने के साथ, बोर्ड ने नौ महीने (जुलाई 2020-मार्च 2021) की अवधि के दौरान आरबीआई के कामकाज पर चर्चा की। बैठक के दौरान गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता में बोर्ड ने संक्रमण अवधि के लिए रिजर्व बैंक की वार्षिक रिपोर्ट और खातों को मंजूरी दी।

यह भी पढ़ें: शेयर बाजार में लौटी रौनक, सेंसेक्स ने लगाई 975 अंकों की छलांग, निफ्टी 269 अंक उछला

बयान के मुताबिक, ''बोर्ड ने 31 मार्च 2021 को समाप्त नौ महीने (जुलाई 2020-मार्च 2021) की लेखा अवधि के लिए केंद्र सरकार को अधिशेष के रूप में 99,122 करोड़ रुपये के हस्तांतरण को मंजूरी दी, जबकि आकस्मिक जोखिम बफर को 5.50 प्रतिशत पर बनाए रखने का निर्णय लिया। बैठक में डिप्टी गवर्नर महेश कुमार जैन, माइकल देवव्रत पात्रा, एम राजेश्वर राव और टी रवि शंकर शामिल हुए। केंद्रीय बोर्ड के अन्य निदेशक एन चंद्रशेखरन, सतीश के मराठे, एस गुरुमूर्ति, रेवती अय्यर और सचिन चतुर्वेदी भी बैठक में शामिल हुए। वित्तीय सेवा विभाग के सचिव देवाशीष पांडा और आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव अजय सेठ ने भी बैठक में भाग लिया।

संबंधित खबरें