ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसRBI ने कैंसिल किया इस बैंक का लाइेंसस, बैंक को बंद करने का दिया आदेश, अब ग्राहक नहीं निकाल सकेंगे पैसे

RBI ने कैंसिल किया इस बैंक का लाइेंसस, बैंक को बंद करने का दिया आदेश, अब ग्राहक नहीं निकाल सकेंगे पैसे

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक और बैंक पर सख्त कार्रवाई किया है और बैंक को कारोबार तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया है।

RBI ने कैंसिल किया इस बैंक का लाइेंसस, बैंक को बंद करने का दिया आदेश, अब ग्राहक नहीं निकाल सकेंगे पैसे
Varsha Pathakएजेंसी,नई दिल्लीSat, 12 Nov 2022 06:20 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक और बैंक पर सख्त कार्रवाई किया है और बैंक को कारोबार तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया है। RBI ने बाबाजी दाते महिला सहकारी बैंक लिमिटेड, यवतमाल, महाराष्ट्र (babaji date mahila sahakari bank yavatmal) का लाइसेंस रद्द कर दिया है। रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को कहा कि इस बैंक के पास पर्याप्त पूंजी और कमाई की संभावनाएं नहीं हैं, जिसके मद्देनजर यह कदम उठाया गया है। 

ग्राहकों को मिलेंगे पैसे
बैंक द्वारा दिए गए आंकड़ों के हवाले से रिजर्व बैंक ने कहा कि लगभग 79 प्रतिशत डिपोजिटर्स, जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) से अपनी जमा राशि की पूरी राशि प्राप्त करने के हकदार हैं। डीआईसीजीसी ने 16 अक्टूबर, 2022 तक पहले ही कुल बीमित जमा राशि का 294.64 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है।

यह भी पढ़ें- 1 पर 3 बोनस शेयर दे रही यह कंपनी, साथ में एक शेयर को दो टुकड़ों में बांटेगी, रिकॉर्ड डेट का हुआ ऐलान

RBI ने क्या कहा?
अपने लाइसेंस को रद्द करने के परिणामस्वरूप, बाबाजी दाते महिला सहकारी बैंक लिमिटेड को बैंकिंग का व्यवसाय करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है, जिसमें अन्य बातों के अलावा, उसे जमा राशि लेने और भुगतान करने से तत्काल प्रभाव से रोका जाना शामिल है। शुक्रवार (11 नवंबर, 2022) को कारोबार बंद होने के बाद से बाबाजी दाते महिला सहकारी बैंक का लाइसेंस रद्द करने की घोषणा करते हुए रिजर्वबैंक ने कहा कि बैंक के पास पर्याप्त पूंजी और कमाई की संभावनाएं नहीं हैं।

यह भी पढ़ें- 1 के बदले 9 शेयर मिलेंगे, साथ ही 10 टुकड़ों में बंटेगा स्टॉक, शेयर खरीदने की मची होड़, लगा अपर सर्किट

रिजर्व बैंक ने कहा, ''बैंक अपनी वर्तमान वित्तीय स्थिति मके साथ अपने वर्तमान जमाकर्ताओं को पूर्ण भुगतान करने में असमर्थ होगा, और अगर बैंक को अपने बैंकिंग कारोबार को आगे बढ़ाने की अनुमति दी जाती है तो जनहित पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।''