DA Image
23 अक्तूबर, 2020|8:47|IST

अगली स्टोरी

RBI ने दिया ब्याज दरों में और कटौती का संकेत, कम हो सकती है आपकी EMI 

rbi

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने ब्याज दरों में आगे और कटौती के संकेत देते हुए कहा है कि कोरोना महामारी से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए किए गए उपायों को जल्द नहीं हटाया जाएगा।

आरबीआई ने छह अगस्त को जारी नीतिगत समीक्षा में रेपो दरों में कोई बदलाव नहीं किया था। केंद्रीय बैंक इससे पहले पिछली दो बैठकों में नीतिगत दर में 1.15 प्रतिशत की कटौती कर चुका है। फिलहाल रेपो दर 4 प्रतिशत, रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत और सीमांत स्थायी सुविधा (एमसीएफ) दर 4.25 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि महामारी की रोकथाम के बाद अर्थव्यवस्था को मजबूती के रास्ते पर लाने के लिए सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा। 

केन्द्रीय बैंक द्वारा पिछले दिनों घोषित उपायों पर दास ने कहा कि किसी तरह यह नहीं मानना चाहिए कि आरबीआई उपायों को जल्द हटा लेगा। उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर, बैंकिंग क्षेत्र लगातार मजबूत और स्थिर बना हुआ है और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एकीकरण सही दिशा में एक कदम है। उन्होंने कहा कि बैंकों का आकार जरूरी है, लेकिन दक्षता इससे भी महत्वपूर्ण है।

हमारे तरकश में तीर खत्म नहीं हुए
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि हमारा बैंकिंग क्षेत्र पूरी तरह मजबूत और स्थिर हैं। उन्होंने कहा कि चाहे दर में कटौती हो या फिर अन्य नीतिगत कदम हों, हमारे तरकश के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं।

जोखिम से ज्यादा बचने की प्रवृत्ति नुकसानदेय
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने गुरुवार को बैंकों को सावधान करते हुए कहा कि जोखिम से जरूरत से ज्यादा बचने की प्रवृत्ति खुद उनके लिए नुकसानदायक होगी और यदि वे अपना बुनियादी काम भी नहीं करेंगे, तो कमाई भी नहीं कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि कर्ज देने से बचने की जगह बैंकों को अपने जोखिम प्रबंधन और प्रशासनिक ढांचे में सुधार करना चाहिए और खुद में पर्याप्त लचीलापन लाना चाहिए।  

Latest Gold Price: सोने की कीमतों में गिरावट पर ब्रेक, 2314 रुपये उछली चांदी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:RBI has given indications to cut interest rates