ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसटाटा समूह की हुई Air India, समझें- अब एविएशन इंडस्ट्री में क्या कुछ बदल जाएगा

टाटा समूह की हुई Air India, समझें- अब एविएशन इंडस्ट्री में क्या कुछ बदल जाएगा

27 जनवरी 2022, ये टाटा समूह के लिए ऐतिहासिक दिन है। दरअसल, करीब 69 साल बाद आधिकारिक तौर पर टाटा समूह के हाथों में एयर इंडिया की कमान आ गई है। इस बात की पुष्टि टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने की...

टाटा समूह की हुई Air India, समझें- अब एविएशन इंडस्ट्री में क्या कुछ बदल जाएगा
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 27 Jan 2022 04:45 PM

इस खबर को सुनें

27 जनवरी 2022, ये टाटा समूह के लिए ऐतिहासिक दिन है। दरअसल, करीब 69 साल बाद आधिकारिक तौर पर टाटा समूह के हाथों में एयर इंडिया की कमान आ गई है। इस बात की पुष्टि टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने की है। 

18000 करोड़ की डील: टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टैलेस प्राइवेट लिमिटेड ने आठ अक्टूबर, 2021 को कर्ज में डूबी एयर इंडिया के अधिग्रहण की 18,000 करोड़ रुपये में बोली जीत ली थी। इसके बाद अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी होने में करीब तीन महीने लग गए। अब आधिकारिक तौर पर एयर इंडिया की कमान टाटा समूह को मिल गई है।
 
एविएशन इंडस्ट्री में कितनी हिस्सेदारी: इस अधिग्रहण प्रक्रिया के बाद भारत की एविएशन इंडस्ट्री में टाटा समूह का दबदबा बढ़ गया है। टाटा समूह की अब तीन एयरलाइन- विस्तारा, एयर एशिया और एयर इंडिया हो गई है।

-टाटा समूह को एयर इंडिया में शत प्रतिशत हिस्सेदारी मिली है। 
-विस्तारा एयरलाइन, टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड और सिंगापुर एयरलाइंस लिमिटेड (एसआईए) का एक ज्वाइंट वेंचर है। इसमें टाटा संस की 51 फीसदी हिस्सेदारी है तो सिंगापुर एयरलाइन का स्टेक 49 फीसदी है।
-अगर एयर एशिया की बात करें तो इसमें टाटा संस की हिस्सेदारी 83.67 फीसदी है। 

एविएशन इंडस्ट्री में कहां है टाटा: नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के आंकड़ों के मुताबिक, एयरएशिया, विस्तारा और एयर इंडिया की डोमेस्टिक एयरलाइन इंडस्ट्री में करीब 25 फीसदी हिस्सेदारी है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के आंकड़ों की मानें तो डोमेस्टिक एयरलाइन में एयर इंडिया 13.4 फीसदी, विस्तारा 8.1 फीसदी, एयरएशिया इंडिया 3.3 फीसदी की हिस्सेदार है।

लीडिंग कंपनी कौन:  इंटरग्लोब एविएशन लिमिटेड की एयरलाइन कंपनी इंडिगो की बात करें तो करीब 58 फीसदी की हिस्सेदारी है। स्पाइसजेट की 9.1 फीसदी और गोएयर की 6.8 फीसदी हिस्सेदारी है। 

दो और एयरलाइन: इस साल एविएशन इंडस्ट्री में दो और एयरलाइन आ रही हैं। करीब ढाई साल बाद जेट एयरवेज एक बार फिर उड़ान के लिए तैयार है। वहीं, शेयर बाजार में बिग बुल के नाम से मशहूर राकेश झुनझुनवाला की अकासा एयर भी उड़ान भरने वाली है।

epaper