ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसRakesh Jhunjhunwala portfolio: घड़ी बनाने वाली कंपनी ने बदला था बिग बुल का टाइम, ₹3 का स्टॉक अब ₹2500 के भाव पर

Rakesh Jhunjhunwala portfolio: घड़ी बनाने वाली कंपनी ने बदला था बिग बुल का टाइम, ₹3 का स्टॉक अब ₹2500 के भाव पर

Rakesh Jhunjhunwala portfolio: बता दें कि टाटा समूह का स्टॉक टाइटन पिछले एक साल में लगभग ₹1,835 से ₹2,500 के स्तर तक बढ़ गया है, जिससे इसके शेयरधारकों को लगभग 35 प्रतिशत का रिटर्न मिला है।

Rakesh Jhunjhunwala portfolio: घड़ी बनाने वाली कंपनी ने बदला था बिग बुल का टाइम, ₹3 का स्टॉक अब ₹2500 के भाव पर
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 14 Aug 2022 02:15 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

Rakesh Jhunjhunwala portfolio: शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का 62 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में कई ऐसे स्टॉक्स हैं जिन्होंने बिग बुल को मालामाल किया। हालांकि, इसमें भी घड़ी बनाने वाली कंपनी टाइटन एक ऐसा स्टॉक है, जिसने झुनझुनवाला को सबसे बड़ा रिटर्न दिया। 

3 रुपये पर खरीदे थे शेयर: टाटा समूह का यह स्टॉक पिछले 20 वर्षों में लगभग ₹3 से ₹2500 के स्तर तक बढ़ गया है। अप्रैल से जून 2022 तिमाही के दौरान राकेश झुनझुनवाला और उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला के पास टाइटन के कुल मिलाकर 4,48,50,970 शेयर हैं, जो कंपनी की कुल चुकता पूंजी का 5.05 प्रतिशत है। बिग बुल ने 2002-2003 के दौरान टाइटन कंपनी के 8 करोड़ शेयर ₹3 प्रति शेयर के औसत मूल्य पर खरीदे थे। पिछले 20 वर्षों में, स्टॉक ने अपने निवेशकों को 83,250 प्रतिशत रिटर्न दिया है।

टाटा समूह का यह स्टॉक पिछले एक साल में लगभग ₹1,835 से ₹2,500 के स्तर तक बढ़ गया है, जिससे इसके शेयरधारकों को लगभग 35 प्रतिशत का रिटर्न मिला है। पिछले पांच वर्षों में, राकेश झुनझुनवाला का यह स्टॉक ₹625 से बढ़कर ₹2,500 हो गया है, इस अवधि में लगभग 300 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

ये पढ़ें-बजट वाले दिन ही कमाए 18 करोड़ रुपये, फिर पत्नी से कहा-लो अपना AC आ गया

पिछले 10 वर्षों में, टाइटन कंपनी के शेयर की कीमत लगभग ₹225 से ₹2,500 प्रति शेयर स्तर तक बढ़ गई है, इस अवधि में लगभग 1,000 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। इसी तरह, पिछले 20 वर्षों में, यह मल्टीबैगर स्टॉक ₹3 से ₹2,500 के स्तर तक बढ़ गया है। कहने का मतलब ये है कि पिछले दो दशकों में लगभग 83,250 प्रतिशत का रिटर्न मिला है।

epaper