DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश को पांच हजार अरब की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए सरकारी बैंकों का मंथन

indian economy

भारतीय स्टेट बैंक और सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य बैंकों ने अगले पांच साल में देश को पांच हजार अरब की अर्थव्यवस्था बनाने में मदद के लिए बैंकिंग क्षेत्र को और अधिक मजबूत बनाने को लेकर आपस में विचार-मंथन का पहला चक्र रविवार को पूरा किया है।

वित्त मंत्रालय के वित्तीय सेवा विभाग के निर्देश पर बैंकों ने बैंकिंग क्षेत्र की आगे की वृद्धि की राह तैयार करने के लिए शाखा स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक सुझाव एवं विचार जुटाने के लिए शनिवार से एक महीने के एक अभियान की शुरुआत की। वित्त मंत्रालय का यह कदम नरम पड़ती अर्थव्यवस्था को नयी ऊष्मा प्रदान करने का लक्ष्य करके किया गया है क्योंकि इसमें बैंकिंग क्षेत्र की भूमिका काफी अहम है।

स्टेट बैंक के प्रबंध निदेशक पी के गुप्ता ने यहां कहा कि बैंक ने 17 सर्किलों के 502 क्षेत्री व्यावसायिक कार्यालयों में बैठकों को आयोजन किया। पिछले दो दिन में इन बैठकों में 15,000 से अधिक अधिकारियों ने हिस्सा लिया। उन्होंने कहा, ''बहुत से सुझाव आए हैं। प्रक्रियाओं को बेहतर बनाना, नये उत्पाद पेश करना और बैंकों को ग्राहकों के अधिक अनुकूल बनाने जैसे सुझाव इनमें शामिल हैं।''

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंध निदेशक राजकिरण राय जी ने कहा कि यह अनूठा अभियान है क्योंकि इसमें निचले स्तर के अधिकारियों को भी विचार-विमर्श की प्रक्रिया में शामिल किया गया है। पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, आंध्रा बैंक, सिंडिकेट बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक सहित सार्वजनिक क्षेत्र के सभी बड़े बैंकों ने देशभर में बैठकों का आयोजन किया। इंडियन ओवरसीज बैंक ने एक बयान में कहा कि बैंकों को ग्राहक केंद्रित बनाने के साथ वरिष्ठ नागरिकों, किसानों, छोटे उद्योगों, उद्यमियों, युवाओं, छात्रों और महिलाओं पर विशेष ध्यान दिये जाने से जुड़े सुझाव मिले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PSU Banks Complete First Round od Ideation Excercise For India USD 5 Trillion Economy