DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  लॉकडाउन में 14.16% घट गई बिजली खपत, अनलॉक से अब बढ़ेगी मांग 

बिजनेसलॉकडाउन में 14.16% घट गई बिजली खपत, अनलॉक से अब बढ़ेगी मांग 

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Mon, 01 Jun 2020 01:45 PM
लॉकडाउन में 14.16% घट गई बिजली खपत, अनलॉक से अब बढ़ेगी मांग 

कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिए जारी 'लॉकडाउन (बंद) के कारण मांग कम होने से देश में बिजली की खपत मई महीने में 14.16 प्रतिशत घटकर 103.02 अरब यूनिट रही। एक साल पहले इसी महीने में यह 120.02 अरब यूनिट थी।  हालांकि मई महीने में बिजली की खपत अप्रैल की तुलना में बढ़ी है। अप्रैल महीने में इसमें 22.65 प्रतिशत की कमी आयी थी। कोरोना वायरस महामारी और देशव्यापी बंद के कारण पूरे अप्रैल महीने में बिजली की मांग कम रही थी।

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: लॉकडाउन 5.0 के पहले दिन सोने की कीमतों में बड़ा बदलाव, चांदी पहुंची 50000 के पार

मई का आंकड़ा बताता है कि सरकार की आर्थिक गतिविधियों की मंजूरी और पारा 45 डिग्री से ऊपर पहुंचने से बिजली खपत सुधरी है। बिजली मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार पिछले महीने कुल बिजली खपत 103.02 अरब यूनिट रही जो एक साल पहले इसी माह में 120.02 अरब यूनिट थी। आंकड़े के अनुसार अप्रैल में बिजली खपत 22.65 प्रतिशत घटकर 85.16 अरब यूनिट रही थी जो एक साल पहले 2019 के इसी माह में 110.11 अरब यूनिट थी। सरकार ने कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिये 25 मार्च से देशव्यापी बंद की घोषणा की थी। इसके कारण अप्रैल के साथ मई में वाणिज्यिक और औद्योगिक मांग कम रही।

यह भी पढ़ें: एक लाख रुपये से अधिक बिजली बिल चुकाया तो रिटर्न भरना जरूरी, नये ITR फॉर्म जारी

मई महीने में बिजली की अधिकतम मांग 26 मई को 1,66,420 मेगावाट रही जो एक साल पहले इस महीने 1,82,550 मेगावाट की अधिकतम मांग की तुलना में 8.82 प्रतिशत कम है।  इसी प्रकार, अप्रैल में बिजली की अधिकतम मांग 1,32,770 मेगावाट रही जो पिछले साल 2019 के इसी महीने मे 1,76,810 मेगावाट के मुकाबले 25 प्रतिशत कम है।

यह भी पढ़ें: New Changes From 1st June: पेट्रोल-डीजल की कीमत से लेकर राशन कार्ड तक, जानें आज एक जून से क्या-क्या हो रहा बदलाव

वाणिज्य और औद्योगिक मांग कम होने के साथ इस साल अप्रैल मे मौसम कुछ ठंडा रहने से मांग कम रही। माह के दूसरे पखवाड़े में भी तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहा। हालांकि 4 मई से 31 मई के दौरान कई आर्थिक गतिविधियों में छ्रट दी गयी। इससे औद्योगिक और वाणिज्यिक मांग में तेजी आयी। इसके अलावा पारा चढ़ने से भी बिजली की मांग बढ़ी। विशेषज्ञों का मानना है कि एक जून से रियायतें बढ़ने के साथ आने वाले दिनों में बिजली की मांग बढ़ेगी। 

संबंधित खबरें