DA Image
1 नवंबर, 2020|12:09|IST

अगली स्टोरी

आलू की महंगाई ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड, जानें कीमतें बढ़ने की असल वजह

second center of international potato research institute will open in agra

आलू की महंगाई ने पिछले 10 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। कोल्ड स्टोरेज आलू से भरे हैं पर कीमतें कम होने का नाम नहीं ले रहीं। मोदी सरकार आलू की घरेलू सप्लाई बढ़ाने और कीमतों को काबू में लाने के लिए भूटान से 30,000 टन आलू का आयात करने जा रही है। इसके बावजूद देश के अधिकतर शहरों में आलू 50 रुपये किलो बिक रहा है। उपभोक्ता मंत्रालय की वेबसाइट पर दिए गए आंकड़ों के मुताबिक देशभर में 31 अक्टूबर को आलू का खुदरा भाव 30 रुपये से 60 रुपये किलो है। वहीं अगर प्याज की बात करें तो यह 35 रुपये से 95 रुपये और टमाटर 10 रुपये से 80 रुपये किलो बिका।

यह भी पढ़ें: मंडी समीक्षा: त्योहारी मांग से सरसों तेल में तेजी, सोयाबीन तेल में 25 फीसद की गिरावट

31 अक्टूबर को इस भाव पर बिके आलू-प्याज और टमाटर

केंद्र आलू प्याज टमाटर
पोर्ट ब्लेयर 60 80 70
तृश्शूर 60 80 40
श्रीनगर. 60 70 50
एर्नाकुलम 60 70 40
गंगटोक 55 78 60
आगरा 50 70 50
जगदलपुर 50 70 50
अहमदाबाद 50 70 58
नासिक 50 70 38
ईटानगर 50 70 60
सोलन 50 60 50
हरिद्वार 50 60 55
देहरादून 50 55 60
बिलासपुर 50 50 50
मुंबई 48 82 44
हल्द्वानी 48 55 50
पणजी 46 79 45
कोयंबतूर 46 70 16
गोरखपुर 45 75 50
धर्मशाला 45 70 55
दिल्ली 45 65 50
पटना 45 65 45
जबलपुर 45 62 35
चंडीगढ़ 45 60 50
रुद्रपुर 45 50 50
विजयवाड़ा 44 68 26
चेन्नई 42 67 27
नागपुर 42 60 44
गुवाहाटी 42 60 70
जम्मू 40 70 50
लुधियाना 40 70 60
गुड़गांव 40 65 50
लखनऊ. 40 65 50
वाराणसी 40 60 50
कानपुर 40 50 57
रांची 38 70 40
इंदौर 38 65 42
न्यूनतम मूल्य 30 35 10
मॉडल मूल्य 40 70 50
अधिकतम मूल्य 60 95 80

स्रोत: राज्य नागरिक आपूर्ति विभाग

ये है कीमतें बढ़ने की असल वजह

  • सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अक्टूबर में आलू 39.30 रुपये प्रति किलो के भाव से बिका जो पिछले 130 महीनों में सबसे अधिक है।
  • आलू का फुटकर भाव आमतौर पर सितंबर से नवंबर के बीच अधिक रहती हैं,  लेकिन इस साल यह फरवरी से मार्च से ही महंगा होना शुरू हो गया
  • पिछले साल की तुलना में इस बार इसका स्टोरेज कम हुआ है। देश भर के स्टोरेज में इस बार 36 करोड़ बैग (हर बैग 50 किलो का) का भंडारण हुआ था, जबकि पिछले साल 48 करोड़ बैग और उसके पिछले साल 2018 में 57 करोड़ बैग का भंडारण हुआ था। 
  • मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड फार्मर्स वेलफेयर के आंकड़ों के मुताबिक इस बार 214.25 लाख टन आलू कोल्ड स्टोरेज में रखा गया था, जबकि पिछले साल 2018-19 में 238.50 लाख आलू कोल्ड स्टोरेज में था।
  • भारत ने इस साल अप्रैल से अगस्त के बीच नेपाल, ओमान, सऊदी अरब और मलेशिया को 1.23 लाख टन आलू निर्यात किया था। 
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Potato inflation breaks 10 year record know the real reason for rising prices