DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › PMJDY: जन धन खातों की संख्या में तीन गुना इजाफा, जानें इसके 10 फायदे
बिजनेस

PMJDY: जन धन खातों की संख्या में तीन गुना इजाफा, जानें इसके 10 फायदे

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Wed, 04 Aug 2021 10:46 AM
PMJDY: जन धन खातों की संख्या में तीन गुना इजाफा, जानें इसके 10 फायदे

जन धन खातों की संख्या अब तीन गुनी हो गई है।  मार्च 2015 में खातों की संख्या 14.72 करोड़ थी, जो अब 21 जुलाई 2021 तक बढ़कर 42.76 करोड़ हो गई है। मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक पीएम जनधन योजना को आम जनता ने काफी पसंद किया है। इसे जीरो बैलेंस पर खोलना पड़ता है और किसी भी सेवा के लिए शुल्क वसूलने की अनुमति नहीं है।

वित्तीय सेवा विभाग ने ट्वीट करके लिखा है कि  PMJDY खातों में जमा राशि ने स्थापना के बाद से कई गुना वृद्धि हासिल की है (मार्च 15 में 15,670 करोड़ रुपये से मार्च 21 तक 145,551 करोड़ रुपये) हो गई। यह वित्तीय समावेशन कार्यक्रम की सफलता का एक बड़ा प्रमाण है।

 

जन धन खाते के 10 फायदे

1. इसमें 2 लाख रुपये तक एक्सिडेंटल इंश्योरेंस कवर आपको मिलेगा।
2. जनधन खाता है तो आप ओवरड्रॉफ्ट के जरिए अपने खाते से अतिरिक्त 10,000 रुपये तक निकाल सकते हैं।
3. डिपॉजिट पर आपको ब्याज मिलेगा।
4. फ्री मोबाइल बैंकिंग की सुविधा भी दी जाएगी।
5. 30,000 रुपये तक का लाइफ कवर, जो खाता धारक की मृत्यु के बाद कुछ शर्तें पूरी करने पर मिलता है।
6. रुपे डेबिट कार्ड की सुविधा दी जाती है जिससे आप खाते से पैसे निकाल  और खरीददारी भी कर सकते हैं।
7. जनधन के बाद आपका पीएम किसान और श्रमयोगी मानधन जैसी योजनाओं में पेंशन के लिए खाता खुल सकता है।
8. जनधन खाते के जरिए बीमा, पेंशन प्रोडक्ट्स खरीदना आसान है।
9. देश भर में पैसों के ट्रांसफर की सुविधा आपको मिलती है।
10. सरकारी योजनाओं का पैसा सीधा खाते में आता है।

बचत खाते को ऐसे बदलें जन धन में

यदि आपका कोई पुराना बैंक खाता है तो उसे भी जन धन खाता में आसीनी से बदलवा सकते हैं। इसके लिए आपको बैंक ब्रांच में जाकर रुपे कार्ड के लिए आवेदन करना होगा। इसके बाद एक फॉर्म भरते ही आपका बैंक खाता जनधन योजना में बदल दिया जाएगा। वहीं, अगर आप अपना नया जन धन खाता खोलना चाहते हैं इसके लिए बैंक में आपको एक फॉर्म भरना होगा। उसमें नाम, मोबाइल नंबर, बैंक ब्रांच का नाम, आवेदक का पता, नॉमिनी, व्यवसाय/रोजगार और वार्षिक आय व आश्रितों की संख्या, एसएसए कोड या वार्ड नंबर, विलेज कोड या टाउन कोड आदि की जानकारी देनी होगी।

संबंधित खबरें