DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  सुस्त पड़ी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की रफ्तार, ग्रोथ रेट 10 महीने के निचले स्तर पर 

बिजनेससुस्त पड़ी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की रफ्तार, ग्रोथ रेट 10 महीने के निचले स्तर पर 

न्यू़ज एजेंसी,नई दिल्ली Published By: Tarun Singh
Tue, 01 Jun 2021 01:58 PM
सुस्त पड़ी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की रफ्तार, ग्रोथ रेट 10 महीने के निचले स्तर पर 

कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण मई में विनिमार्ण क्षेत्र की रफ्तार सुस्त पड़ गई और इसकी वृद्धि दर 10 महीने के निचले स्तर पर आ गई। आईएचएस मार्किट द्वारा आज जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मई में विनिमार्ण के क्षेत्र का खरीद प्रबंधक सूचकांक पीएमआई 50.8 दर्ज किया गया जो अप्रैल के 55.5 की तुलना में काफी कम है। यह पिछले साल जुलाई के बाद का निचला स्तर है। पीएमआई का 50 से उपर रहना वृद्धि को और इससे कम रहना गिरावट दशार्ता है जबकि 50 का स्तर स्थिरता का द्योतक है। 

Gold Price 1 June: सोने का भाव 50000 के करीब,चांदी बड़ी छलांग के साथ 72000 के पार

आईएचएस मार्किट की इकोनॉमिक्स एसोसिएट डायरेक्टर पॉलियाना डी लीमा ने सवेर्क्षण रिपोर्ट के आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देते हुये कहा ''कोविड-19 संकट गहराने से भारतीय विनिमार्ण क्षेत्र पर दबाव के चिह्न दिखने लगे हैं। बिक्री, उत्पादन और कच्चे माल की खरीद जैसे प्रमुख पैमानों में मई में काफी गिरावट देखी गई और ये 10 महीने के निचले स्तर पर आ गये। अप्रैल की तुलना में सभी पैमानों में गिरावट रही। नये ऑर्डर में कमी आने से कंपनियों ने कर्मचारियों की छंटनी जारी रखी। छंटनी की रफ्तार मई में बढ़ गई।'' 

कोरोना की वजह से वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं तो इन 6 आदतों को बदलें

रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी का संक्रमण बढ़ने और मांग पर इसके प्रभाव के कारण नए ऑर्डर और उत्पादन में 10 महीने की सबसे धीमी वृद्धि हुई। विदेशों से मिलने वाले ऑर्डरों की रफ्तार भी सुस्त पड़ गई। कच्चे माल की खरीद भी बेहद धीमी गति से बढ़ी और कंपनियों में लोगों को नौकरी से निकाला। कोविड-19 से जुड़े प्रतिबंधों और नए ऑर्डरों की कमी के कारण कंपनियों ने अप्रैल की तुलना में ज्यादा छंटनी की। 

संबंधित खबरें