DA Image
5 अगस्त, 2020|10:09|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस: एविएशन सेक्टर के हालात को लेकर पीएम मोदी ने की बैठक

jolly grant airport in dehradun

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार (1 मई) को हुई एक बैठक में भारतीय हवाई क्षेत्र का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल करने का फैसला किया गया है, ताकि यात्रियों के लिए उड़ान का समय कम हो और विमानन कंपनियों की लागत में भी कमी आए। प्रधानमंत्री द्वारा भारत के नागरिक उड्डयन क्षेत्र को और दक्ष बनाने में मदद कर सकने वाली रणनीतियों की समीक्षा करने के लिए आयोजित एक व्यापक बैठक के बाद जारी आधिकारिक बयान में कहा गया कि यह सैन्य मामलों के विभाग के साथ करीबी सहयोग के साथ किया जाएगा।

बयान में कहा गया, ''अधिक राजस्व के साथ-साथ हवाई अड्डों पर अधिक दक्षता लाने के लिए, नागरिक उड्डयन मंत्रालय को तीन महीने के भीतर निविदा प्रक्रिया शुरू करके पीपीपी आधार पर छह और हवाई अड्डों को सौंपने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए कहा गया।" इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी तथा अन्य लोग शामिल हुए। बैठक में ई-डीजीसीए परियोजना की समीक्षा भी की गई, जिसका उद्देश्य डीजीसीए के कार्यालय में अधिक पारदर्शिता लाना और विभिन्न लाइसेंस व अनुमति के लिए लगने वाले समय को कम कर सभी हितधारकों की मदद करना है।

बयान में कहा गया, "यह भी निर्णय लिया गया कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय और इसके तहत आने वाले संगठनों की सभी सुधार पहलें समयबद्ध तरीके से आगे बढ़ें।" प्रधानमंत्री मोदी ने बाद में ट्वीट किया कि बैठक में विमानन क्षेत्र से संबंधित पहलुओं की समीक्षा की गई।

उन्होंने लिखा, ''इनमें हवाईअड्डों को अधिक दक्ष बनाना तथा विमानन क्षेत्र को नयी प्रौद्योगिकियों से लैस करना शामिल रहा।" नागरिक उड्डयन क्षेत्र को कोरोनो वायरस महामारी की बड़ी मार झेलनी पड़ रही है। इसके कारण दुनिया भर की सरकारों को लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाने तथा उड़ानों को बंद करने पर मजबूर होना पड़ा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:PM Narendra Modi holds review meeting to discuss civil aviation sector Amid Coronavirus Lockdown