DA Image
29 अक्तूबर, 2020|1:32|IST

अगली स्टोरी

पीएम किसान सम्मान निधि की 7वीं किस्त नहीं मिलेगी, अगर आपने नहीं किया यह जरूरी काम

ऐन रबी की बुवाई के समय पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम की सातवीं किस्त के रूप में 11 करोड़ से ज्यादा किसानों के खाते में 2000 रुपये आने वाले हैं। इस योजना के तहत अब तक देश के 11.17 करोड़ किसान हर चार महीने पर 2000 रुपये की किस्त का लाभ उठा रहे हैं। मोदी सरकार अब तक 2000-2000 की छह किस्त किसानों के खाते में भेज चुकी है। अब अगली यानी 7वीं किस्त दिसंबर से आनी है, लेकिन अब तक लाखों लोगों के खातों में छठी किस्त नहीं पहुंची है। इनमें सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के किसान हैं। यहां अब तक 43549 किसानों का पेमेंट फेल हो गया है। बहुत तक संभव है कि ऐसे किसानों को सातवीं किस्त भी न मिले। यह तभी मिलेगी, जब उन्हें ये पता चल जाए कि आखिर रजिस्ट्रेशन के बावजूद किस्त नहीं आने कि वजह क्या है? तो घबराएं नहीं, पहले इस लिस्ट पर एक नजर डालें,  आगे आपको वजह भी बताएंगे और इसका समाधान भी।

इन राज्यों में 2000 से ऊपर किसानों का पेमेंट हुआ फेल 

राज्य रजिस्टर्ड किसान FTO जेनरेट पेमेंट फेल
उत्तर प्रदेश 15,392,873 11,695,324 43,549
महाराष्ट्र 4,235,038 3,592,622 23,529
आंध प्रदेश 3,845,945 3,134,723 17,605
गुजरात 3,147,106 2,918,481 15,995
राजस्थान 3,011,471 2,501,270 12,833
तेलंगाना 2,667,200 2,437,324 6,945
केरल 2,613,780 2,371,984 6,564
झारखंड 613,040 372,843 6,542
तमिलनाडु 2,773,646 2,600,802 6,289
हरियाणा 1,253,982 1,144,400 5,209
बिहार 736,900 714,012 4,727
पंजाब 1,558,642 1,196,238 4,714
ओडिशा 984,118 471,304 3,735
हिमाचल प्रदेश 588,099 563,482 3,112
कर्नाटक 425,311 397,481 2,756
उत्तराखंड 591,366 538,069 2,746

स्रोत: pmkisan.gov.in

पेमेंट फेल होने की ये है वजह 

फंड ट्रांसफर ऑर्डर जनरेट होने के बावजूद भुगतान फेल होने की कई वजह हो सकती है। इसकी सबसे बड़ी वजह हैं कुछ छोटी-मोटी गलतियां। जैसे किसी का आवेदन में लिखा गया नाम आधार से मैच नहीं करता या बैंक अकाउंट से नाम नहीं मिलता। किसी ने आधार नंबर सही नहीं डाला है या बैंक का आईएफएससी कोड में गलती कर रखी है।

यह भी पढ़ें:किसान क्रेडिट कार्ड का अब लिमिट बढ़वाना हुआ आसान, एसबीआई ने शुरू की नई सुविधा

केंद्रीय कृषि मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक आवेदनकर्ताओं के नाम, मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट नंबर में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हुई है। इसमें सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और यूपी के मामले हैं। खाता अमान्य होने का दूसरा कारण अस्थायी रोक या जो खाता संख्या दिया गया वो बैंक में मौजूद नहीं था। यह भी हो सकता है बैंक पीएफएमएस यानी सार्वजनिक वित्त प्रबंधन प्रणाली में रजिस्टर्ड नहीं था। किस्त न मिलने की एक वजह यह भी हो सकती है कि नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ इंडिया में आधार सीडिंग नहीं हुई हो।

यह भी पढ़ें:बड़े काम का है पीएम किसान मोबाइल ऐप, रजिस्ट्रेशन से लेेकर लिस्ट में नाम देखने तक की है सुविधा

अगर आवेदन के बाद भी आपके बैंक अकाउंट में पैसे नहीं आए हैं तो अपना रिकॉर्ड चेक कर लें कि कहीं उसमें गलती तो नहीं है। इसके लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है बल्कि आप घर बैठे अपने मोबाइल से ही ठीक कर सकते हैं, अगर आपने पीएम किसान ऐप डाउन लोड किया है तो गलतियां सुधारना और भी आसान है। आइए जानें कैसे करें इन गलतियों को ठीक...

  • PM-Kisan Scheme की ऑफिशियल वेबसाइट (https://pmkisan.gov.in/) पर जाएं। इसके फार्मर कॉर्नर के अंदर जाकर Edit Aadhaar Details ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आप यहां पर अपना आधार नंबर दर्ज करें। इसके बाद एक कैप्चा कोड डालकर सबमिट करें।
  • अगर आपका केवल नाम गलत होता है यानी कि अप्लीकेशन और आधार में जो आपका नाम है दोनों अलग-अलग है तो आप इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं।
  • अगर कोई और गलती है तो इसे आप अपने लेखपाल और कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क करें
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:PM Kisan Samman Nidhi you will not get 7th installment of rs 2000 if