DA Image
6 जून, 2020|9:26|IST

अगली स्टोरी

पीएम केयर्स फंड: कोरोना के खिलाफ जंग में एचडीएफसी ग्रुप ने 150, एसबीआई ने 100, एलआईसी ने 105 करोड़ रुपये दिया दान

free fastag  sbi  sbi kyc  hdfc  hdfc bank  hdfc mobile app old  hdfc mobile new app

दुनिया में नौ लाख से ज्यादा लोगों को बीमार कर चुका कोरोना वायरस अब भारत में भी तेजी से पांव पसार रहा है। भारत में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों का गुरुवार को आंकड़ा 2000 तक पहुंच गया है। जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 41 हो गई। देश के विभिन्न हिस्सों में सिर उठा रही कोविड- 19 महामारी से निपटने के लिए सरकार को सहयोग देने के लिए बुधवार को भी सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के और कंपनियां अपनी तरफ से वित्तीय योगदान और दूसरी तरह के सहयोग की घोषणाओं का सिलसिल जारी रहा। 

यह भी पढ़ें: पीएम केयर्स फंड में आप भी दे सकते हैं दान, देखें किसने कितना दिया

केन्द्र सरकार और कई राज्य सरकारों ने कोरोना वायरस बीमारी के उपचार और परीक्षण सुविधायें उपलब्ध कराने में योगदान के लिए अपने अपने स्तर पर अलग आपात कोष बनाए हैं।  देश के दो अग्रणी वित्तीय संस्थानों भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने प्रधानमंत्री के नागरिक सहायता और आपात स्थिति राहत (पीएम केयर्स) कोष में क्रमश: 100 करोड़ रुपये और 105 करोड़ रुपये का योगदान किया है। 

नए दानवीर

  • वित्तीय सेवा समूह एचडीएफसी ग्रुप ने गुरुवार को कहा कि उसने कोविड -19 महामारी की ओर राहत और पुनर्वास उपायों के लिए पीएम-केयर्स फंड को 150 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।
  • आईआईएफसीएल ने ट्वीट कर बताया कि उसने पीएमकेयर्स कोष में 25 करोड़ रुपये का योगदान किया है। कंपनी ने यह राशि उसके सीएसआर कोष से आगे बढ़कर दी है। कंपनी ने अन्य मदों से अतिरिक्त संसाधन जुटाकर यह राशि दी है।  
  • कोरोना वायरस संकट से लड़ने के लिए जनरल इंश्योंरेस कार्पोरेशन औफ इंडिया ने भी 22.69 करोड़ रुपये का योगदान किया है। पेंशन क्षेत्र के नियामक पेंशन नियामक एवं विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने अपने कर्मचारियों के वेतन का एक हिस्सा पीएम केयर्स कोष में देने का वादा किया है। 

यह भी पढ़ें: पीएम केयर्स फंड: कोरोना के खिलाफ जंग में कूदे कई और औद्यौगिक घराने

  • वित्त मंत्रालय के तहत आने वाले सिक्युरिटी प्रिंटिंग एण्ड मिंटिंग कार्पोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड ने भी दो करोड़ रुपये का योगदान किया है। कंपनी एम्स, दिलली के लिए 45 वेंटीलेटर्स खरीदेगी। कोविड- 19 के इलाज में काम आने वाले उपकरणों की खरीद करेगी। 
  • एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक ने भी राहत कार्यों के लिए पांच करोड़ रुपये का योगदान दिया है। इसमें दो करोड़ रुपये पीएम केयर्स कोष में, दिल्ली और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों के राहत कोष में प्रत्येक को 51 लाख रुपये देने के साथ ही राजस्थान सरकार को परीक्षण सुविधा में मदद दी है। 

यह भी पढ़ें: विप्रो, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन का 1,125 करोड़ रुपये का योगदान

  • पॉलिसी बाजार समूह भी राष्ट्रीय स्तर पर कोविड- 19 हेल्पलाइन के मामले में लोगों द्वारा की जा रही पूछताछ के मामले में समर्थन दे रही है। कंपनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के लिए कॉल सेंटर में स्वैच्दा से कर्मचारियों को भी उपलब्ध करा रही है। यह काम गैर- वाणिज्यिक आधार पर किया जा रहा है। 
  • स्टैण्डर्ड चार्टर्ड बैंक ने भी सरकार की कोविड- 19 की लड़ाई में पांच करोड़ रुपये का योगदान देने का वादा किया है।    निजी क्षेत्र के एक अन्य बैंक करुर वैश्य बैंक ने अपनी कंपनी सामाजिक दायित्व के तहत प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में पांच करोड़ रुपये का योगदान किया है। 
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:PM Cares Fund SBI donates Rs100 crores and LIC donates rs105 crores in the war against Corona