DA Image
Wednesday, December 1, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसपेट्रोल-डीजल के रेट में लगी आग ठंडी होने की उम्मीदों को झटका, सऊदी-यूएई में विवाद से ओपेक-प्लस आउटपुट डील ठप

पेट्रोल-डीजल के रेट में लगी आग ठंडी होने की उम्मीदों को झटका, सऊदी-यूएई में विवाद से ओपेक-प्लस आउटपुट डील ठप

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली Tarun Singh
Tue, 06 Jul 2021 01:57 PM
पेट्रोल-डीजल के रेट में लगी आग ठंडी होने की उम्मीदों को झटका, सऊदी-यूएई में विवाद से ओपेक-प्लस आउटपुट डील ठप

अगर आप पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की उम्मीद लगाए बैठे हैं तो आपकी उम्मीदों को झटका लग सकता है। सऊदी अरब और यूएई के बीच ताजा विवाद के बाद संकट और बढ़ सकता है। सोमवार को ओपेक प्लस की बैठक बेनतीजा रही। साथ ही अगली मीटिंग को लेकर भी अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। ऐसे में इस नए उपजे विवाद के बाद कच्चे तेल की कीमतें बढेंगी और जिसका असर आप पर भी दिखेगा। 

1 साल में एक लाख रुपये बन गए 32 लाख, बिहार की कंपनी आदित्य विजन के निवेशक हुए मालामाल, 3214 फीसद उछले शेयर

क्या है विवाद की वजह 

सऊदी अरब का प्रस्ताव था कि मौजूदा डील को प्रोडक्शन में इजाफा के साथ 2022 तक के लिए बढ़ा दिया जाए। यूएई इसी प्रस्ताव का विरोध कर रहा है। रियाद का मानना है कि महामारी का असर अब भी बाजार पर है। ऐसे में डील आगे बढ़ाकर बाजार में सामंजस्य बनाया रखा जा सकता है। 

1 जून की बैठक में क्या हुआ था फैसला 

तेल निर्यात देशों के संगठन (ओपेक) और सहयोगी उत्पादक देश तेल उत्पादन बढ़ाकर 21 लाख बैरल प्रतिदिन करने का फैसला हुआ था।  वास्तव में ओपेक और संबद्ध उत्पादक देशों के सदस्य वैश्विक तेल बाजारों में परस्पर विरोधी दबावों से जूझ रहे हैं। एक तरफ जहां भारत जैसे कुछ देशों में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण मांग कम होने का अंदेशा है, जबकि कुछ देशों में आर्थिक पुनरूद्धार हो रहा है, जिससे मांग बढ़ने की उम्मीद है। संगठन ने सभी पहलुओं पर विचार करने के बाद तेल उत्पादन बढ़ाने का फैसला किया गया था।

पीएम किसान: करीब 12 करोड़ किसानों के लिए खुशखबरी, जानें कब आएगी 9वीं किस्त

भारत पर क्या पड़ेगा असर 

कच्चे तेल की कीमतों में एक बार इजाफा देखने को मिल सकता है। यह एक बार फिर 80 डाॅलर प्रति बैरेल तक पहुंच सकता है। जनवरी से अबतक भारत के लिए कच्चे तेल की कीमत 60 डाॅलर से 75 डाॅलर प्रति बैरेल पहुंच गई है। जिसकी वजह से देश के अलग-अलग हिस्सों पेट्रोल की कीमतें 100 के पार पहुंच गई हैं। 

केन्द्र सरकार ने पिछले साल मार्च से मई के बीच पेट्रोल पर 13 रुपये और डीजल पर 16 रुपये एक्साइज बढ़ा दिया था। मौजूदा समय पेट्रोल पर 32.98 रुपये और डीजल पर 28.35 रुपये एक्साइज ड्यूटी वसूली जा रही है। टैक्स और महंगे कच्चे तेल की वजह से पेट्रोल और डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं। 

NPS Lite Swavalamban : 25 साल से पहले कर सकेंगे एनपीएस से एक्जिट, नियमों में हुआ बदलाव 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें