DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  पेट्रोल-डीजल हुए महंगे तो घट गई मांग, जानें क्यों नहीं बढ़ रहे अब दाम

बिजनेसपेट्रोल-डीजल हुए महंगे तो घट गई मांग, जानें क्यों नहीं बढ़ रहे अब दाम

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Sat, 13 Mar 2021 03:40 PM
पेट्रोल-डीजल हुए महंगे तो घट गई मांग, जानें क्यों नहीं बढ़ रहे अब दाम

पेट्रोल और डीजल की कीमतें रिकॉर्ड उच्चस्तर पर पहुंचने के बीच देश की ईंधन की खपत में फरवरी में लगातार दूसरे महीने गिरावट आई है। सितंबर के बाद से ईंधन की मांग अपने सबसे निचले स्तर पर आ गई है। पिछले महीने देशभर में पेट्रोल और डीजल के दाम अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गए। हालांकि, पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अब सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने कीमतों में और वृद्धि रोकी हुई है। 

डीजल की मांग फरवरी में 8.5 फीसद घटी

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) के अनुसार, फरवरी में पेट्रोलियम उत्पादों की कुल खपत 4.9 फीसद घटकर 1.72 करोड़ टन रह गई। देश में सबसे ज्यादा उपभोग वाले ईंधन डीजल की मांग फरवरी में 8.5 फीसद घटकर 65.5 लाख टन रह गई। वहीं पेट्रोल की खपत 6.5 फीसद घटकर 24 लाख टन पर आ गई। नाफ्था की बिक्री में कोई बदलाव नहीं हुई, लेकिन सड़क निर्माण में काम आने वाले बिटुमन की मांग में 11 फीसद की गिरावट आई। 

यह भी पढ़ें: अडाणी अमेरिकी और चीनी अरबपतियों पर ऐसे पड़े भारी कि कमाई के मामले में पहुंच गए टॉप पर

एलपीजी की बिक्री में 7.6 फीसद की बढ़ोतरी

LPG gas price subsidy

इस दौरान रसोई गैस एलपीजी की बिक्री में 7.6 फीसद की बढ़ोतरी हुई। कच्चे तेल के आपूर्तिकर्ता समूह ओपेक की बृहस्पतिवार को जारी मासिक रिपोर्ट में अनुमान लगाया है कि 2021 में भारत की कच्चे तेल की मांग 13.6 फीसद बढ़कर 49.9 लाख बैरल प्रतिदिन पर पहुंच जाएगी। 2020 में भारत की तेल की मांग 10.54 फीसद घटकर 44 लाख बैरल प्रतिदिन पर आ गई।  रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्साहवर्धक वृहद आर्थिक संकेतकों के साथ देशभर में कोविड-19 के मामलों में कमी से 2021 में भारत का कच्चे तेल की मांग का परिदृश्य अच्छा नजर आता है। 

संबंधित खबरें