Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़paytm is meeting with NPCI right now to transfer upi handles and QR code to other banks - Business News India

पेटीएम के UPI हैंडल और QR कोड होंगे ट्रांसफर? NPCI से चल रही बात

भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड को किसी भी ग्राहक खाते, प्रीपेड साधन, वॉलेट एवं फास्टैग में 29 फरवरी 2024 के बाद जमा या टॉप-अप स्वीकार न करने का निर्देश दिया था।

Deepak Kumar लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीFri, 2 Feb 2024 08:42 PM
हमें फॉलो करें

पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की कार्रवाई के बाद पेटीएम एक्शन मोड में है। पेटीएम की ओर से लगातार इस प्रकरण को लेकर स्पष्टीकरण दिया जा रहा है तो अब कंपनी UPI हैंडल और QR कोड को दूसरे बैंकों के साथ ट्रांसफर करने पर विचार कर रही है। जानकारी के मुताबिक इसके लिए NPCI यानी नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ बैठक भी हुई है।

पेटीएम के सूत्रों के मुताबिक पेटीएम अभी आईसीआईसीआई या एचडीएफसी जैसे अन्य बैंकों में यूपीआई हैंडल और क्यूआर कोड ट्रांसफर करने के लिए NPCI के साथ बैठक कर रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि अगले 3-4 दिनों में इस पर फैसला हो सकता है। बता दें कि गूगलपे ने यस बैंक के समय इसी तरह से यूपीआई हैंडल को ट्रांसफर किया था।

विजय शेखर शर्मा की सफाई
इस बीच, पेटीएम की पैरेंट कंपनी- वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड (ओसीएल) के सीईओ विजय शेखर शर्मा ने कहा कि डिजिटल भुगतान एवं सेवा ऐप पेटीएम काम कर रहा है और 29 फरवरी के बाद भी यह हमेशा की तरह काम करता रहेगा। शर्मा ने कहा, '' पेटीएम इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों के लिए...आपका पसंदीदा ऐप काम कर रहा है और 29 फरवरी के बाद भी इसी तरह काम करता रहेगा।'' आपको बता दें कि वन97 कम्युनिकेशंस के पास पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी है लेकिन वह इसे अपनी सहयोगी के रूप में वर्गीकृत करता है बल्कि सब्सिडयरी कंपनी के रूप में नहीं।    

आरबीआई की कार्रवाई: बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड को किसी भी ग्राहक खाते, प्रीपेड साधन, वॉलेट एवं फास्टैग में 29 फरवरी 2024 के बाद जमा या टॉप-अप स्वीकार न करने का निर्देश दिया था। इसके बाद से कंपनी के शेयर में लगातार गिरावट आ रही है। इस बीच, पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने कहा था कि आरबीआई के आदेश से कंपनी के वार्षिक परिचालन लाभ पर 300-500 करोड़ रुपये का असर पड़ने की आशंका है क्योंकि उसके ग्राहक अपने वॉलेट, फास्टैग आदि में पैसे नहीं डाल पाएंगे।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें