DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एचटी ब्रांड स्टूडियो: ब्रांड लीडर्स बोले- उपभोक्तओं का भरोसा ना तोड़ें

brandStudio

वेव मेकर के चीफ कॉन्टेंट ऑफिसर कार्तिक नागराजन ने एचटी ब्रांड स्टूडियो में कहा, कस्टमर्स के बीच अपने ब्रांड की घटती विश्वसनीयता ने कंपनियों को ब्रैंडेड कॉन्टेंट के बारे में सोचने के लिए मजबूर किया है। अब कंपनियां विज्ञापन के अलावा अपने उत्पाद और उपभोक्ता बीच संवाद स्थापित करने के लिए ब्रैंडेड कॉन्टेंट को एक जरिया बना रही हैं। 

नागराजन ने ब्रांड स्टूडियो लाइव के द्वितीय संस्करण में ये बातें कही जहां मार्केटिंग और ब्रांडिंग की दुनिया में नए पहलुओं पर देश की प्रमुख कंपनियों के शीर्ष अधिकारी ने भी चर्चा की। यह कार्यक्रम एचटी ब्रांड स्टूडियो (HT Brand Studio) और डीएमए एशिया (DMAasia) की तरफ से संयुक्त रूप से आयोजित किया गया।

विस्तारा के मार्केटिंग हेड और वाइस प्रेसिडेंट सोलोमन व्हीलर ने कहा, अतीत में ब्रांड्स लंबे समय तक टीवी ऐड और लेखों के माध्यम से लोगों से अपील किया करते थे। वर्तमान में कंपनियां प्रचलित शब्दों के माध्यम से भावनात्मक मार्केटिंग और मोबाइल कंटेंट के जरिए रणनीति बना रही हैं। यही कारण है कि रणनीति लगातार विकसित होनी चाहिए और कंपनियों पुरानी मीडिया रणनीति का विस्तार नहीं करना चाहिए।

अपने कस्टमर को बेहतर ढंग से समझना ही अच्छी मार्केटिंग: केस्ट्रोल मार्केटिंग हेड केदार आप्टे

एक प्रकाशक तौर पर एचटी डिजिटल स्ट्रीम्स के सीईओ राजीव बंसल ने विचार-विमर्श के दौरान कहा, एक प्रकाशन घर के साथ सहयोग करते समय एक ब्रांड को और अधिक प्रामाणिकता के साथ काम करना होता है। कंटेंट के साथ सावधानी इसलिए बरती जानी चाहिए ताकि दर्शकों का विश्वास नहीं टूटे।

चूंकि ब्रांड्स तेजी से ग्राहकों के दिल की तारों को छूने की कोशिश करते हैं, इसलिए सभी वक्ता इस बात पर सहमत हुए कि मार्केटिंग में सभी को अप्रोच करने के लिए एक साइज फिट नहीं हो सकता है। उन्हें यह ध्यान में रखना चाहिए कि भावनाएं ही महत्वपूर्ण हैं और ग्राहक ब्रांड को कैसे पहचानते हैं।

माइक्रोसाफ्ट इंडिया के इंटीग्रेटेड मार्केटिंग के डायरेक्टर हिमानी अग्रवाल ने कहा, ब्रांडिंग के मामले में, इस दिशा में पहला कदम यह पता लगाना होता है कि क्या ग्राहक वास्तव में मूल्यवान है और सही समय पर सही लोगों को ब्रांड के बारे में बता सकता है। ब्रांडिंग में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की भूमिका के बारे में बात करते हुए अग्रवाल ने कहा, इंफॉरमेशन के ओवरलोड और कम समय होने के चलते स्टोरीटेलिंग पहले की तुलना में महत्वपूर्ण हो गई है।

अगर मार्केटिंग बेहतर होगी तो सेलिंग की जरूरत नहीं: SAP मार्केटिंग हेड कृष्णन चटर्जी

चूंकि स्मार्टफोन सस्ता हो गए हैं और भारत का डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर होता जा रहा है, अधिक से अधिक भारतीय अपने मोबाइल पर पहले कंटेंट को एक्सेस कर रहे हैं। क्षेत्रीय भाषा के उपयोगकर्ताओं की विशाल अप्रत्याशित क्षमता को ध्यान में रखते हुए, पैनासोनिक के पंकज राणा ने बताया कि चीनी बड़े पैमाने पर भारतीयों के बारे यह सोचते हैं कि यह एक अंग्रेजी राष्ट्र है। राणा ने बताया कि भारत में सिर्फ 125 मिलियन मोबाइल उपभोक्ता अंग्रेजी भाषा के हैं जबकि 550 मिलियन यूजर्स क्षेत्रीय भाषाओं के हैं।

निसान मोटर कार्प के कंटेंट स्ट्रैटजी अमित बजाज, मैडिसन के चीफ डिजिटल ऑफिसर विशाल चिंचालकर और भारतीय विज्ञापन जगत के दिग्गजों ने कहा कि लंबे समय के लिए ब्रांडिंग स्ट्रैटजी बनाते हुए कंटेंट बनाम संदर्भ को ध्यान में रखने की जरूरत है।

एचटी डिजिटल स्ट्रीम्स में सीओओ और डिजिटल ब्रांड्स के प्रमुख रमित अरोड़ा के साथ भी चर्चा हुई। उन्होंने ब्रांड की जरूरतों के अनुरूप प्रामाणिकता से समझौता किए बिना सही दर्शकों को संबोधित करने और माध्यम में आगे बढ़ने के लिए पारंपरिक ब्रांडिंग विकसित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:One size does not fit all Brand leaders on finding the right audience and connecting with them