DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  कोविड की नई लहर ने निवेशकों के 8.77 लाख करोड़ रुपये डूबोए, जानें आगे कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल
बिजनेस

कोविड की नई लहर ने निवेशकों के 8.77 लाख करोड़ रुपये डूबोए, जानें आगे कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल

एजेंसी,मुंबईPublished By: Drigraj Madheshia
Mon, 12 Apr 2021 06:03 PM
कोविड की नई लहर ने निवेशकों के 8.77 लाख करोड़ रुपये डूबोए, जानें आगे कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल

भारत समेत पूरी दुनिया में कोविड-19 संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच निवेशकों की घबराहटपूर्ण बिकवाली से सोमवार को सेंसेक्स 1,708 अंक का गोता लगा गया, जबकि निफ्टी 14,350 अंक के स्तर से नीचे आ गया। जोरदार गिरावट के बीच निवेशकों की 8.77 लाख करोड़ रुपये की पूंजी डूब गई। बीएसई की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण घटकर 200.85 लाख करोड़ रुपये रह गया।   कारोबारियों ने कहा कि महामारी की दूसरी लहर उम्मीद से अधिक घातक साबित हो रही है और स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन के बीच भागीदार पुनरुद्धार को लेकर नए सिरे से आकलन करने लगे हैं। डॉलर के मुकाबले रुपये में भी लगातार गिरावट से निवेशकों का भरोसा डगमगाया है। 

यह भी पढ़ें: बाजार में भूचाल के बावजूद इन शेयरों ने किया मालामाल, ये हैं आज के सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाले स्टॉक्स

फरवरी के बाद सेंसेक्स में एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट

निवेशकों की घबराहटपूर्ण बिकवाली के बीच बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,707.94 अंक या 3.44 फीसद के नुकसान से 47,883.38 अंक पर आ गया। यह 26 फरवरी के बाद सेंसेक्स में एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट है।  इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 524.05 अंक या 3.53 फीसद के नुकसान से 14,310.80 अंक पर बंद हुआ।   सेंसेक्स के 30 शेयरों में सिर्फ डॉ. रेड्डीज 4.83 फीसद के लाभ में रहा जबकि अन्य में गिरावट आई है। सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक का शेयर सबसे अधिक 8.60 फीसद टूट गया। बजाज फाइनेंस, एसबीआई, ओएनजीसी, टाइटन, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और बजाज फिनसर्व के शेयरों में भी गिरावट दर्ज की गई। 

एक दिन में संक्रमण के 1,68,912 नए मामले

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में एक दिन में संक्रमण के 1,68,912 नए मामले आए हैं। महामारी की शुरुआत के बाद यह सबसे ऊंचा आंकड़ा है। देश में संक्रमण का आंकड़ा अब 1,35,27,717 पर पहुंच गया है।   राष्ट्रीय स्तर पर कोविड से उबरने की दर घटकर 90 फीसद से नीचे आ गई है। 

Q1 में आर्थिक वृद्धि उम्मीद से कहीं अधिक प्रभावित होने की आशंका

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ''लॉकडाउन के क्रियान्वयन और कोविड के नए मामले रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने से बाजार एक माह के निचले स्तर पर आ गया। इससे चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि उम्मीद से कहीं अधिक प्रभावित होने की आशंका है।  नायर ने कहा, ''इसका प्रभाव समझा जाता है कि बैंकिंग और विवेकाधीन क्षेत्रों पर कहीं अधिक पड़ सकता है। कारोबार का यह रुख अभी कुछ सप्ताह जारी रहेगा। कोविड के मामले घटने शुरू होने पर ही बाजार की स्थिति सुधरेगी। 

यह भी पढ़ें: कर्मचारियों को पांच की जगह हफ्ते में चार दिन करना होगा काम, 3 दिन मिलेगी छुट्टी? क्या मोदी सरकार बदलेगी नियम

बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 5.32 फीसद तक की गिरावट आई। वैश्विक बाजार भी अपने रिकॉर्ड उच्चस्तर से नीचे आ गए। अन्य एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट, हांगकांग का हैंगसेंग और जापान के निक्की में गिरावट आई। वहीं दक्षिण कोरिया के कॉस्पी में लाभ रहा।  शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार बढ़त में थे।  इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 0.57 फीसद की बढ़त के साथ 63.31 रुपये प्रति डॉलर पर कारोबार कर रहा था।   अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपये में लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट आई और यह 32 पैसे और टूटकर 75.05 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। 

संबंधित खबरें