ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसअक्टूबर से महंगाई का नया डोज! सरकार ने गैस के दाम में की रिकॉर्ड बढ़ोतरी

अक्टूबर से महंगाई का नया डोज! सरकार ने गैस के दाम में की रिकॉर्ड बढ़ोतरी

अप्रैल 2019 के बाद से गैस की दरों में यह तीसरी वृद्धि होगी। बेंचमार्क अंतरराष्ट्रीय कीमतों में मजबूती के कारण इनमें तेजी आई है। नेचुरल गैस उर्वरक बनाने के साथ बिजली पैदा करने के लिए अहम कच्चा माल है।

अक्टूबर से महंगाई का नया डोज! सरकार ने गैस के दाम में की रिकॉर्ड बढ़ोतरी
Deepak Kumarएजेंसी,नई दिल्लीFri, 30 Sep 2022 09:15 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अक्टूबर के महीने में महंगाई का नया डोज मिलने वाला है। दरअसल, नेचुरल गैस की कीमतों में 40 प्रतिशत की रिकॉर्ड बढ़ोतरी कर दी गई है। इससे देश में बिजली उत्पादन, उर्वरक बनाने और वाहन चलाने में इस्तेमाल होने वाली गैस महंगी हो जाने की आशंका है। 

आपको बता दें कि नेचुरल गैस उर्वरक बनाने के साथ बिजली पैदा करने के लिए एक प्रमुख कच्चा माल है। इसे सीएनजी में भी बदला जाता है और पाइप्ड नेचुरल गैस (पीएनजी) यानी रसोई गैस के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। 

सीएनजी-पीएनजी के बढ़ेंगे दाम: नेचुरल गैस की दरों में भारी वृद्धि से सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी होने की आशंका है, जो पहले से ही पिछले एक साल में 70 प्रतिशत से अधिक बढ़ चुकी हैं। गैस की कीमतें मुद्रास्फीति को और भी बढ़ा सकती हैं जो पिछले आठ महीनों से आरबीआई के संतोषजनक स्तर से ऊपर चल रही है। महंगाई को कंट्रोल करने के लिए आरबीआई लगातार रेपो रेट में बढ़ोतरी कर रहा है। 

यहां नहीं पड़ेगा असर: इससे बिजली पैदा करने की लागत में भी वृद्धि होगी लेकिन उपभोक्ताओं को कोई बड़ी परेशानी नहीं होगी क्योंकि गैस से पैदा होने वाली बिजली का हिस्सा बहुत कम है। इसी तरह, उर्वरक उत्पादन की लागत भी बढ़ जाएगी लेकिन सरकार की तरफ से ऊर्वरक सब्सिडी देने से दरों में वृद्धि की संभावना नहीं है। हालांकि इस फैसले से उत्पादकों की आय में वृद्धि होने की संभावना है।