ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसम्यूचुअल फंड बनाम रियल एस्टेट- आपके निवेश के लिए कौन है बेहतर, कौन दिलाएगा बम्पर रिटर्न?

म्यूचुअल फंड बनाम रियल एस्टेट- आपके निवेश के लिए कौन है बेहतर, कौन दिलाएगा बम्पर रिटर्न?

बात जब निवेश की आती है तो आपको किसी भी निवेश में पैसा लगाने से पहले कई बातों पर विचार करना पड़ता है। निवेश के विकल्पों को शॉर्टलिस्ट करते समय आपके पास स्टॉक(Stock), म्यूचुअल फंड (Mutual Fund), सोना...

म्यूचुअल फंड बनाम रियल एस्टेट- आपके निवेश के लिए कौन है बेहतर, कौन दिलाएगा बम्पर रिटर्न?
Satya Prakashलाइव मिंट ,नई दिल्ली Wed, 23 Feb 2022 12:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

बात जब निवेश की आती है तो आपको किसी भी निवेश में पैसा लगाने से पहले कई बातों पर विचार करना पड़ता है। निवेश के विकल्पों को शॉर्टलिस्ट करते समय आपके पास स्टॉक(Stock), म्यूचुअल फंड (Mutual Fund), सोना (Gold), सावधि जमा (FD) और रियल एस्टेट (Real Estate) जैसे कई विकल्प होते हैं। अगर हम लॉन्ग टर्म के बारे में बात करते हैं, तो कुछ लोग एमएफ पसंद करते हैं जबकि अन्य रियल एस्टेट में निवेश करना चाहते हैं। यहां रियल एस्टेट और म्यूचुअल फंड का निवेश साधनों के रूप में तुलनात्मक विश्लेषण किया गया है।

म्यूचुअल फंड निवेश एक जोखिम भरा निवेश
शीरबुल्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर शुभम अरोड़ा के मुताबिक, सभी निवेश साधनों के अपने फायदे और नुकसान होते हैं लेकिन हमें रिटर्न की क्षमता, निरंतरता, सुरक्षा और बजट रेंज जैसे कारकों को अपने निर्णय के आधार पर नियंत्रित करना चाहिए। महामारी के कारण अल्पकालिक चुनौतियों के बावजूद, रियल एस्टेट को अभी भी लगभग एक फिक्स्ड डिपाजिट के समान ही माना जाता है। दूसरी ओर म्यूचुअल फंड निवेश एक जोखिम भरा निवेश है। प्रत्येक निवेशक को निवेश साधन की लिक्विडिटी के पहलू पर ध्यान देना चाहिए।

रियल एस्टेट निवेश के फायदे
गोयल गंगा समूह के एमडी और नारेडको पुणे के प्रेजिडेंट (चुनाव) अतुल गोयल का कहना है कि लिक्विडिटी के मामले में म्यूचुअल फंड और रियल एस्टेट दोनों अलग-अलग हैं। हालांकि ऐसा लगता है कि म्युचुअल फंड अधिक तरल हैं, रिस्क कोसेंट और मार्केट एक्सपोज़र लिक्विडिटी को एक चुनौती बनाते हैं। प्रॉपर्टी के मामले में ऐसा नहीं है, आपको सौदे को सील करने में कुछ महीने लग सकते हैं, लेकिन मूल्य बरकरार रहता है, और म्यूचुअल फंड के विपरीत पैसा रातों-रात गायब नहीं हो सकता है। गोयल के मुताबिक, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि लोगों को ब्रोकरेज में पैसा देना पड़ता है, इसके अलावा निवेशकों को घबराहट की बिक्री से भी सावधान रहना चाहिए क्योंकि इससे संपत्ति का मूल्य कम हो जाता है।

संबंधित खबरें

लॉन्ग टर्म के लिए रियल एस्टेट बेहतर?
आम धारणा यह रही है कि रियल एस्टेट में निवेश वर्षों से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। आरपीएस ग्रुप के पार्टनर सुरेन गोयल का कहना है, “मंदी की कुछ अवधि को छोड़कर शहरों में संपत्ति की कीमतें आसमान छू गई हैं। हालांकि स्थिरता कनेक्टिविटी, भौतिक बुनियादी ढांचे, सामाजिक सुविधाओं, सड़क नेटवर्क, पड़ोस, नियोजित परियोजनाओं जैसे कारकों पर बहुत अधिक निर्भर है और इसे एक म्यूचुअल फंड / इक्विटी बाजार की तुलना में अधिक सुरक्षित माना जाता है। रियल एस्टेट उद्योग के विशेषज्ञों का मानना ​​है कि लंबी अवधि के नजरिए से, रियल एस्टेट और संपत्ति निवेश को अभी भी प्राथमिकता दी जाती है और निवेशकों द्वारा इसे पसंद किया जाना जारी रहेगा।

epaper