DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुशखबरी: मुद्रा योजना में लोन की रकम 20 लाख करने की सिफारिश

देशभर के छोटे कारोबारियों को कर्ज की जरूरत पूरा करने के लिए जल्द ही मुद्रा योजना के तहत मिलने वाली लोन की अधिकतम राशि 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपये की जा सकती है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) पर बनी रिजर्व बैंक (आरबीआई) की विशेषज्ञों की समिति ने यह सिफारिश की है।

आरबीआई ने सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) के आर्थिक और वित्तीय स्थायित्व के लिए दीर्घावधि के समाधान के लिए आठ सदस्यीय समिति का गठन किया था। उसी समिति द्वारा तैयार की गई एक रिपोर्ट का हिस्सा है, जिसमें एमएसएमई क्षेत्र के लिए मुद्रा योजना के तहत लोन की राशि 20 लाख करने की सिफारिश की गई है। आरबीआई द्वारा जल्द ही इस रिपोर्ट को सार्वजनिक किए जाने की उम्मीद है। अगर आरबीआई केंद्रीय सिफारिश को मंजूरी देता है, तो बैंकिंग नियामक को 1 जुलाई 2010 के परिपत्र में संशोधन करना होगा। 

नए रोजगार पैदा करने की तैयारी 

आर्थिक विशेषज्ञों का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी हो गई है। इससे रोजगार के नए अवसर कम पैदा हो हो रहे हैं। एनबीएफसी संकंट से एमएसएमई क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित हो रहा है। आरबीआई की समिति ने सभी हालातों को देखते हुए यह सुझाव दिया है। अगर इससे लागू किया जाता है तो छोटे कारोबारियों को कर्ज की जरूरत पूरा करने में मदद मिलेगी। वहीं नए करोबार शुरू करने वाले को भी प्रोत्साहन मिलेगा क्योंकि बैंक इसके तहत कोलेट्रल फ्री (जामनत मुक्त) लोन देते हैं। इससे देश में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। 

2015 में शुरू हुई थी यह योजना 

मुद्रा योजना की शुरुआत 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई थी। इस योजना का उद्देश्य रेहड़ी-पटरी वाले से लेकर छोटे कारोबार को बिना किसी जमानत के कर्ज मुहैया करना था। मुद्रा योजना की वेबसाइट के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान इस योजना के तहत 3 खरब रुपये का लोन दिया गया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mudra Scheme Loan Amount Recommendation Rs 20 Lakhs