DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › जिस बैंक में सरकार बेच रही हिस्सेदारी, उसके मुनाफे में चार गुना उछाल
बिजनेस

जिस बैंक में सरकार बेच रही हिस्सेदारी, उसके मुनाफे में चार गुना उछाल

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Deepak Kumar
Thu, 29 Jul 2021 10:12 AM
जिस बैंक में सरकार बेच रही हिस्सेदारी, उसके मुनाफे में चार गुना उछाल

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के नियंत्रण वाले आईडीबीआई बैंक को जबरदस्त मुनाफा हुआ है। बैंक की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक अप्रैल-जून की तिमाही में बैंक का मुनाफा चार गुना उछलकर 603.30 करोड़ रुपए रहा। एक साल पहले इसी अवधि में बैंक को 144.43 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। 

बैंक के एनपीए में सुधार: आईडीबीआई बैंक की संपत्ति गुणवत्ता में सुधार आया है। कुल कर्ज के प्रतिशत के रूप में नॉन परफॉर्मिंग एसेट यानी एनपीए घटकर 22.71 फीसदी पर आ गया है। एक साल पहले जून 2020 में एनपीए 26.81 फीसदी था। आईडीबीआई बैंक ने बताया कि जून 2021 को समाप्त तिमाही में उसकी कुल आय 6,554.95 करोड़ रुपए रही जो एक साल पहले इसी तिमाही में 5,901 करोड़ रुपए थी।

NPS Scheme खरीदते वक्त रखें इन बातों का ध्यान, अधिक पेंशन के साथ पाएंगे एकमुश्त मोटी रकम 

सरकार बेच रही हिस्सेदारी: ये मुनाफा ऐसे समय में हुआ है जब केंद्र सरकार बैंक में अपनी हिस्सेदारी बेच रही है। हाल ही में सरकार ने आईडीबीआई बैंक में रणनीतिक विनिवेश के साथ-साथ मैनेजमेंट कंट्रोल के हस्तांतरण को अपनी सैद्धांतिक मंजूरी दी है।

आपको बता दें कि भारत सरकार और एलआईसी के पास आईडीबीआई बैंक की 94 फीसदी से भी अधिक हिस्सेदारी (भारत सरकार 45.48%, एलआईसी 49.24%) है। वर्तमान में एलआईसी ही आईडीबीआई बैंक की मैनेजमेंट कंट्रोलर के साथ प्रमोटर भी है। वहीं, भारत सरकार इसकी सह-प्रमोटर है।

बीते वित्त वर्ष में भी मुनाफा: बीते वित्त वर्ष में आईडीबीआई बैंक ने 5 साल बाद मुनाफा कमाया था। बैंक ने बताया था कि वित्त वर्ष 2020-21 में 1,359 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। पांच साल में पहली बार था जब बैंक के नतीजे अच्छे रहे। इससे पहले 2019-20 में बैंक को 12,887 करोड़ का नुकसान हुआ था। 

संबंधित खबरें